परिवहन मंत्री ने बिना ड्राइवर वाली कार को दिखाया ‘रेड सिग्नल’

  • परिवहन मंत्री ने बिना ड्राइवर वाली कार को दिखाया ‘रेड सिग्नल’
You Are HereBusiness
Tuesday, July 25, 2017-5:28 PM

नई दिल्लीः भारत में बिना ड्राइवर वाली कार से सफर का सपना अभी पूरा नहीं होगा। परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने साफ कह दिया है कि वह फिलहाल इस टेक्नोलॉजी वाली कार को भारत में अनुमति नहीं देंगे। नितिन गडकरी के मुताबिक बिना ड्राइवर कार की टेक्नोलॉजी से भारत में लाखों ड्राइवरों की नौकरियां खत्म हो सकती है ऐसे में फिलहाल वह इसको इजाजत नहीं दे सकते। परिवहन मंत्री के मुताबिक मौजूदा समय में ट्रांसपोर्ट सेक्टर में ट्रक और टैक्सी कंपनियों की तरफ से लाखों नौकरियां दी जा रही हैं और ड्राइवरलेस कार से यह सभी नौकरियां खतरे में आ सकती हैं। हालांकि उन्होंने ड्राइवरलेस कार को पूरी तरह से नहीं नकारा है।

उन्होंने कहा है कि हो सकता है भविष्य में इस तकनीक को हम अनसुना नहीं कर सकें और इसे अपनाना मजबूरी हो जाए, लेकिन मौजूदा हालात में इस तकनीक को इजाजत नहीं दी जा सकती। परिवहन मंत्री ने ओला और उबर की तर्ज पर सरकार की तरफ से टैक्सी सेवा के लिए एक मोबाइल एप्लीकेशन जारी करने की बात भी कही। उन्होंने कहा कि सरकारी प्लेटफॉर्म से ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोजगार मिल सकेगा, फिलहाल यह आइडिया शुरुआती दौर में है लेकिन सरकार इसपर गंभीरता से काम कर रही है।
PunjabKesari
कई शहरों में हो चुका है ट्रायल
वैश्विक स्तर पर कई बड़ी ऑटो कंपनियां ड्राइवरलेस तकनीक पर सालों से काम कर रही हैं और कई शहरों में ड्राइवर लेस तकनीक का ट्रायल भी हो चुका है, टेस्ला मोटर्स, बायदू, गूगल, उबर, मर्सिडीज, फोर्ड और जनरल मोटर जैसे बड़े ऑटो ब्रांड इस तकनीक पर काम कर रहे हैं। भारत में टाटा ग्रुप की कंपनी टाटा एलेक्सी भी इस तकनीक पर काम कर रही है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You