वन रैंक वन पेंशन का श्रेय सिंह और सोनिया के नाम

  • वन रैंक वन पेंशन का श्रेय सिंह और सोनिया के नाम
You Are HereNational
Monday, February 24, 2014-10:12 PM

चंडीगढ़: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भूतपूर्व सैनिकों के लिए वन रैंक वन पेंशन की घोषणा को दिमाग से नहीं बल्कि दिल से लिया गया फैसला बताते हुए इसका श्रेय प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह तथा संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की अध्यक्ष सोनिया गांधी को दिया है। गांधी ने आज यहां पंजाब प्रदेश कांग्रेस द्वारा वन रैंक वन पेंशन की मांग मानने के लिए उनका आभार व्यक्त करने के लिए आयोजित भूतपूर्व सैनिकों की रैली को सम्बोधित करते हुए कहा कि यह करीब 25 साल पुराना मुद्दा था जिसका फैसला बहुत पहले ही हो जाना चाहिए था लेकिन अब हो गया तथा इससे 23 लाख से ज्यादा भूतपूर्व सैनिक लाभान्वित होंगे।

उन्होंने कहा कि इस मांग को मानने में कई तरह की पेचीदगियां थीं जिनको लेकर उन्होंने श्रीमती गांधी से चर्चा की तथा उन्हें बताया कि सैनिक देश के लिए जिंदगी, पसीना और खून देते हैं ऐसे में इस सम्बंध में फैसला दिमाग से नहीं बल्कि दिल से लिए जाने की जरूरत है जिस पर उन्होंने भी हामी भर दी। उन्होंने इस फैसला का पूरा श्रेय डा. मनमोहन सिंह तथा श्रीमती गांधी को दिया और कहा मैंने इसमें केवल थोड़ी सी मदद की।

आगामी लोकसभा चुनावों के मद्देनजर श्री गांधी ने उपस्थित भूतपूर्व सैनिकों से वादा किया कि भविष्य में जब कभी भी उनकी जरूरत होगी वे हमेशा उनके हर काम के लिए हाजिर रहेंगे। इस मौके पर अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के महासचिव शकील अहमद, हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रताप सिंह बाजवा, हरियाणा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर सहित अनेक वरिष्ठ नेता उपस्थित थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You