विकास बोला-मुझे बलि का बकरा बनाया जेल जाने से लग रहा डर, जल्दी जमानत कराओ

You Are HereChandigarh
Sunday, August 13, 2017-7:47 AM

चंडीगढ़ (सुशील): हरियाणा के आई.ए.एस. की बेटी का अपहरण करने की कोशिश करने वाले आरोपी विकास बराला ने अदालत में कहा कि उसे तो बलि का बकरा बनाया गया है। जेल जाने से डर लग रहा है, जल्दी से जमानत करवा दो। यह बात विकास बराला ने अपने वकील सूर्यप्रकाश को अदालत में सुनवाई से पहले कही। शनिवार दोपहर करीब एक बजे दो दिन का पुलिस रिमांड समाप्त होने के बाद डी.एस.पी. सतीश कुमार ने विकास बराला और उसके दोस्त आशीष को कड़ी सुरक्षा में ड्यूटी मैजिस्ट्रेट के सामने पेश किया। आज भी दोनों अरोपियों ने अदालत के अंदर अपना मुंह रूमाल से छिपा रखा था। ड्यूटी मैजिस्टे्रट के सामने जांच अधिकारी ने कहा कि दो दिन के पुलिस रिमांड के दौरान पुलिस ने विकास बराला और आशीष से सारी पूछताछ कर ली है। पुलिस ने विकास बराला और आशीष का पुलिस रिमांड की मांग नहीं की। इसके चलते ड्यूटी मैजिस्ट्रेट ने दोनों को 25 अगस्त के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया। 


 

पुलिस ने खानापूर्ति के लिए सीन रिक्रिएट करवाया : वकील 
बचाव पक्ष के वकील सूर्यप्रकाश ने बताया कि उनकी विकास से बात हुई उसमें उसने सिर्फ इतना ही कहा कि उसे बलि का बकरा बनाया जा रहा है। उनका कहना था कि सीन रिक्रऐशन के दौरान विकास बराला से गाड़ी चलाने की बजाए खुद पुलिसकर्मी ने गाड़ी चलाई है। पुलिस ने खानापूर्ति के लिए ही सीन रिक्रिएट करवाया है। उन्होंने कहा कि रिमांड नहीं मांगे जाने से यह भी साफ होता है कि पुलिस के पास कोई ठोस सबूत नहीं है। उन्होंने कहा कि सीन रिक्रिएट के दौरान न तो पीड़िता हाऊसिंग बोर्ड पर मौजूद थी और न ही पुलिसकर्मियों ने अपनी गाड़ी हाऊसिंग बोर्ड पर रोकी थी। इससे साफ हो रहा है कि विकास बराला लड़की का पीछा नहीं बल्कि वह हाऊसिंग बोर्ड की तरफ जा रहा था। बचाव पक्ष के वकील की मानें तो पूछताछ भी पुलिस को अहसास हो गया होगा कि आरोपियों को गलत फंसाया गया है।

 

चश्मदीद अदालत के चक्कर काटने से कतराने लगा
चंडीगढ़ पुलिस ने पंचकूला निवासी एक कार चालक को गवाह बनाया था। पहले तो युवक ने पुलिस को बयान दर्ज करवा दिए, लेकिन हाईप्रोफाइल मामले का पता लगते ही चश्मदीद भी अब पुलिस के सामने आने से कतरा रहा है। पुलिस सूत्रों की मानें से चश्मदीद कार चालक युवक विकास बराला की गाड़ी के पीछे आ रहा था। चंडीगढ़ पुलिस अब चश्मदीद को मनाने में लगी हुई है, ताकि केस मजबूत हो सके। 


 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You