करोड़ों की लागत से तैयार हुआ सैलानियों के लिए नेचर म्यूजियम एंड लर्निंग सैंटर

You Are HereChandigarh
Thursday, December 07, 2017-12:55 PM

मोरनी(अनिल) : ऐतिहासिक प्राचीन किले में करोड़ों की लागत से तैयार नेचर म्यूजियम एंड लर्निंग सैंटर को वन विभाग ने सैलानियों के लिए खोल दिया है। इस म्यूजियम को हर सप्ताह हरियाणा समेत चंडीगढ़, पंजाब, दिल्ली आदि शहरों से हजारों की संख्या में मोरनी आने वाले सैलानियों को जंगली जानवरों के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान करने के लिए तैयार किया गया है। 

 

उद्घाटन के बाद विभाग ने इस पर ताला जड़ रखा था और यहां आने वाले सैलानियों को वापस लौटना पड़ रहा था।  नेचर म्यूजियम एंड लर्निंग सैंटर में विभिन्न प्रजातियों के जंगली जानवरों की खूबसूरत आकृतियां तैयार की गई हैं, जिन्हें बनाने में दर्जनों कारीगरों को लगभग एक साल से ज्यादा का समय लगा है। 

 

वन विभाग सैंटर को ठेके पर देने की योजना पर कर रहा विचार :
जानकारी के अनुसार नेचर म्यूजियम एंड लर्निंग सैंटर में आने वाले सैलानियों को अपनी जेबें ढीली करनी पड़ेंगी। वन विभाग नेचर म्यूजियम एंड लर्निंग सैंटर को टैंडर अलॉट करने व ठेके पर देने की योजना पर विचार कर रहा है।  इस नेचर म्यूजियम एंड लर्निग सैंटर का उद्घाटन वन एंव लोक निर्माण मंत्री राव नरवीर सिंह ने गत 14 नम्वबर को बाल दिवस के मौके पर किया था। 

 

फिलहाल वन विभाग ने अभी तक यहां इसके लिए टिकट नहीं लगाई है लेकिन वन विभाग के अधिकारियों में विचार विमर्श चल रहा है कि म्यूजियम को विभाग अपने स्तर पर सैलानियों के लिए चलाएगा या निजी फर्म या ठेकेदार से चलवाएगा। फिलहाल विभाग ने इस पर्यटकों के लिए खोल दिया ताकि यहां आने वाले सैलानी निराश न लौटें।

 

वहीं इस बारे सम्पर्क करने मोरनी-पिजौंर वन मंडल अधिकारी पवन शर्मा ने कहा कि इस नेचर म्यूजियम एंड लर्निग सैंटर को खोल दिया है और टिकट बारे विचार विमर्श चल रहा है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You