मुसीबतों से छुटकारा पाने के लिए करें आचार्य चाणक्य की बातों पर अमल

  • मुसीबतों से छुटकारा पाने के लिए करें आचार्य चाणक्य की बातों पर अमल
Tuesday, September 27, 2016-3:25 PM

महान आचार्य चाणक्य ने मौर्य साम्राज्य की स्थापना करके अखण्ड भारत का निर्माण किया था। आचार्य चाणक्य एक बड़े दूरदर्शी विद्वान थे। चाणक्य जैसे बुद्धिमान, रणनीतिज्ञ, चरित्रवान व राष्ट्रहित के प्रति समर्पित भाव वाले व्यक्ति भारत के इतिहास में ढूंढने से भी बहुत कम मिलते हैं। चाणक्य के अनुसार व्यक्ति के जीवन में दु:ख अौर सुख आते रहते हैं। जीवन में आ रही परिस्थितियों में अच्छे से तालमेल बैठाने से खुशहाल जीवन यापन किया जा सकता है। 

 

* चाणक्य के अनुसार मुसीबत न आने पर भी सावधान रहना चाहिए। यदि किसी पर मुसीबत आ जाए तो प्रयास करके उससे छुटकारा पाएं।

 

* जो व्यक्ति आधा पढ़ा होता है वह मीठे बोल नहीं बोल सकता। जो व्यक्ति सीधी बात करता है वह कभी धोखा नहीं दे सकता। 

 

* सोने की परख उसे घिसकर, काटकर, गरमकर और पीट कर की जाती है। उसी प्रकार व्यक्ति की परख के लिए देखना चाहिए कि वह कितना त्याग कर सकता है, उसका व्यवहार, गुण अौर आचरण कैसा है।

 

* चाणक्य के अनुसार धर्म की रक्षा पैसे, ज्ञान की अजमाने से होती है। उसी प्रकार राजा से रक्षा उसकी बात मानने अौर घर की कुशल गृहिणी से होती है।

 

* सत्य की शक्ति इस दुनिया को धारण करती है। सत्य की शक्ति से ही सूर्य प्रकाशमान है अौर हवाएं चलती हैं। सब कुछ सत्य पर आश्रित है।

 

* दान गरीबी को, अच्छा आचरण दुःख, विवेक अज्ञान अौर जानकारी डर को समाप्त करती है। 
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You