राक्षसी अत्याचारों से पृथ्वी को बचाने के लिए कृष्ण ने लिया जन्म

  • राक्षसी अत्याचारों से पृथ्वी को बचाने के लिए कृष्ण ने लिया जन्म
You Are HereReligious Fiction
Wednesday, August 28, 2013-11:40 AM

द्वापर युग में जब पृथ्वी पर राक्षसों का अत्याचार बढऩे लगा तो पृथ्वी गाय का रूप धारण कर अपने उद्दार के लिए ब्रह्मा जी के पास गई। ब्रह्मा जी सब देवताओं को साथ लेकर पृथ्वी को भगवान विष्णु जी के पास क्षीर सागर ले गए। उस समय भगवन विष्णु अन्नत शैया पर सो रहे थे।
स्तुति करने पर भगवान की निद्रा भंग हो गई। भगवान ने ब्रह्मा और सब देवताओं से जब आने का कारण पूछा तो पृथ्वी ने उनसे यह आग्रह किया कि वे उसे पाप के बोझ से बचाएं। यह सुनकर विष्णु जी बोले,"मैं बज्र मंडल में वासुदेव की पत्नी देवकी के गर्भ से जन्म लूंगा। आप सब देवतागण बज्र में जाकर यादव वंश की रचना करो। इतना कहकर भगवान अंर्तध्यान हो गए।"

इसके बाद सभी देवताओं ने यादव वंश की रचना की। द्वापर युग के अंत में मथुरा में उग्रसेन राजा राज्य करता था। उसके पुत्र का नाम कंस था। कंस ने उग्रसेन को बलपूर्वक सिंहासन से उतारकर खुद राजा बन गया। कंस की बहन देवकी का विवाह यादव कुल में वासुदेव के साथ निश्चित हो गया।

जब कंस देवकी को विदा करने के लिए रथ के साथ जा रहा था तो आकाशवाणी हुई,"हे कंस! जिस देवकी को बड़े प्यार से विदा करने जा रहा है उसका आठवां पुत्र तेरी मृत्यु का कारण बनेगा।"

आकाशवाणी की बात सुनकर कंस क्रोधित हो गया और देवकी को मारने के लिए तैयार हो गया। उसने सोचा न देवकी होगी न उसका पुत्र। तब वासुदेव जी ने कंस को समझाया की,"तुम्हें देवकी से तो कोई भय नहीं है। देवकी की आठवीं संतान मैं तुम्हें सौंप दूंगा।"

वासुदेव कभी झूठ नहीं बोलते थे तो कंस ने वासुदेव की बात स्वीकार कर ली। वासुदेव-देवकी को कारागार में बंद कर दिया गया। उसी समय नारद जी वहां पहुंचे और कंस से कहा की ये कैसे पता चलेगा की आठवां गर्भ कौन सा है? गिनती प्रथम से शुरू होगी या अंतिम से? कंस ने नारद के परामर्श पर देवकी के गर्भ से पैदा होने वाले सभी बालकों को मारने का निश्चय कर लिया। इस प्रकार कंस ने देवकी के 7 बालकों की हत्या कर दी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You