घर में सुख की रोशनी होगी और समृद्धि की बरसात

  • घर में सुख की रोशनी होगी और समृद्धि की बरसात
You Are HereDharm
Friday, October 04, 2013-12:59 PM
घर की स्त्री को लक्ष्मी और अन्नपूर्णा का दर्जा दिया जाता है। लक्ष्मी पूजा शायद इसी स्त्री की पूजा है। स्त्री ही कठिन परिश्रम के द्वारा तिनका-तिनका जोड़कर घर बनाती है। किस तरह घर की साफ-सफाई से लेकर परिवार के खान-पान, स्वास्थ्य और खुशी का ध्यान रखती है। घर में धन-धान्य आने का प्रतीक वहां की गृहलक्ष्मी हैं। अगर घर की लक्ष्मी निम्न उपायों का पालन करे तो घर ऐसा बनाया जा सकता है कि वहां से वैभव,खुशी,सुख-शांति कभी रूठकर नहीं जाती।

- जो स्त्री नियमित रूप से गाय की पूजा करने के उपरांत गोग्रास निकालती है उस पर लक्ष्मी की विशेष दया रहती है।

- जिस गृहलक्ष्मी के घर में मन्त्र सिद्ध श्रीयंत्र, कनकधारा यंत्र, कुबेर यंत्र स्थापित हों, उनके घर में लक्ष्मी पीढिय़ों तक निवास करती है।

- जो अनाज का सम्मान करते हैं और घर में आये हुए अतिथि का, घर वालों के समान ही स्वागत सत्कार करते हैं उसके घर में लक्ष्मी स्थिर रूप से रहती हैं।

- जो स्त्री पति का सम्मान करती है, पति की आज्ञा का उल्लंघन नहीं करती, घर में सबको भोजन कराकर, फिर भोजन करती है। उसी स्त्री के घर में सदैव लक्ष्मी का निवास रहता है।

- प्रसन्न चित्त, मधुर बोलने वाली, सौभाग्यशालिनी, रूपवती सुन्दर और सुरूचिपूर्ण वस्त्र धारण किये रहने वाली, प्रियदर्शना और पतिव्रता स्त्री के घर में लक्ष्मी का निवास रहता है।

- जो स्त्री सुन्दर, हिरनी के समान नेत्र वाली, सुन्दर केश श्रृंगार करने वाली, धीरे चलने वाली और सुशील हो, उसके घर में लक्ष्मी निवास करती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You