...से समस्त कर्मो की सिद्धि हो जाती है

  • ...से समस्त कर्मो की सिद्धि हो जाती है
You Are HereDharm
Tuesday, November 12, 2013-10:08 AM
जो व्यक्ति हरे कृष्णा हरे कृष्णा भगवान के नाम का जाप करता है उसे यदि भूल में भी कुछ पाप हो जाता है तो वे हरे कृष्णा नाम के प्रभाव से नष्ट हो जाता है। उस से चाहें सहस्रों हत्या हो गई हों, सहस्र बार उग्र पान किया हो, अनेक प्रकार के चोरी के कर्म हुए हों, यदि उसे हरि का नाम प्रिय लगने लगा हो तो उसके पिछले समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं।

बिना इच्छा के भी अग्नि छूने से जला ही देती है। इसी प्रकार अनिष्ठापूर्वक भी अज्ञ पुरूष के मुख से निकला हुआ हरे कृष्णा पापों को जला ही देता है। जिसने एक बार भी हरे कृष्णा नाम का उच्चारण कर लिया वह बिना कपट के यम के अधिकार में नहीं जाता। जो जीवों से भले ही द्रोह करने वाला रहा हो, आत्म हत्यारा अथवा निन्दनीय कर्म करने वाला ही क्यों न रहा हो वह भी हरे कृष्णा नाम से पवित्र हो जाता है।

समस्त कर्म संसार को ही देने वाले हैं। केवल हरे कृष्णा ही मुक्ति देने वाला है। जो भी हरे कृष्णा नाम का जाप करता है उसको बारम्बार नमस्कार है। हरे कृष्णा नाम लेने पर देश, शौच, अशौच काल का नियम नहीं है। अगर कोई व्यक्ति पूर्व में पापी, परहिंसक, पर अपकारक भी रहा हो, किंतु हरे कृष्णा नाम में वह विशुद्ध बनकर मुक्त हो जाता है इसलिए सर्व कर्मो का परित्याग करके निरन्तर हरे कृष्णा स्मरण करना चाहिए। हरे कृष्णा के उच्चारण से समस्त कर्मो की सिद्धि हो जाती है।

हरे कृष्णा नाम का जो जाप व गायन करते हैं, श्री हरि की लीलाओं का जो निरन्तर अनुसंधान करते हैं और जो हरि के पुण्य क्षेत्रों में निवास करते हैं, वे नर रूपधारी साक्षात श्री हरि ही हैं।

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You