गुरु व्यक्ति के भाग्य का निर्णय करने वाले हैं

  • गुरु व्यक्ति के भाग्य का निर्णय करने वाले हैं
You Are HereDharm
Thursday, December 05, 2013-7:32 AM
ज्योतिष शास्त्र में गुरु को सर्वाधिक शुभ ग्रह माना गया है। यह धनु और मीन राशियों का स्वामी है। यह कर्क राशि में उच्च का तथा मकर में नीच का माना जाता है। धनु इसकी मूल त्रिकोण राशि भी है। बृहस्पति अपने स्थान से पांचवें ,सातवें और नवें स्थान को पूर्ण दृष्टि से देखता है और इसकी दृष्टि को परम शुभ कारक कहा गया है। जनम कुंडली में गुरु दूसरे,पांचवें, नवें, दसवें और ग्यारहवें भाव का कारक होता है ।

गुरु की सूर्य, चन्द्र, मंगल से मैत्री पूर्वक संबंध है। शनि से समता और बुध व शुक्र से शत्रुता है। यह स्व, मूल त्रिकोण व उच्च, मित्र राशि नवांश में, गुरूवार में, वर्गोत्तम नवमांश में, उत्तरायण में, दिन और रात के मध्य में, जन्मकुंडली के केन्द्र विशेषकर लग्न में बलवान व शुभकारक होता है। बृहस्पति को गुरु भी कहा जाता है I

बृहस्पति ग्रहों में सबसे बड़ा ग्रह है I यह पीले रंग का प्रतिनिधित्व करता है I जिन लोगों की कुंडली में गुरु का प्रभाव अधिक होता है वे अध्यापक, वकील, जज, पंडित, प्रकांड विद्वान या ज्योतिषाचार्य हो सकते हैं I सोने का काम करने वाले सुनार, किताबों की दुकान, आयुर्वेदिक औषधालय, पुस्तकालय, प्रिंटिंग मशीन आदि पर गुरु का अधिकार होता है I

गुरु एक नैसर्गिक शुभ ग्रह है तथा यह जहां भी बैठता है उस स्थान को पवित्र कर देता है I धर्म स्थान में कार्यरत प्रमुख व्यक्ति इसी से संचालित होते हैं I सभी तीर्थस्थल इसी ग्रह के अंतर्गत आते हैं I पूर्ण रूप से ब्राह्मण धर्म का पालन करने वाले पंडित, न्यायपालिका के अंतर्गत आने वाले सर्वोच्च पद यानी न्यायाधीश, सरकारी वकील, साधू संतों में प्रमुख, कागज़ का व्यापार करने वाले व्यापारी तथा गजेटेड अधिकारी गुरु द्वारा ही संचालित होते हैं I

गुरु से प्रभावित व्यक्ति हृष्ट पुष्ट या थोड़े मोटे हो सकते हैं I इनका शरीर विशाल होता है I ये झूठ आसानी से नहीं बोल सकते अपितु बात को घुमा फिरा कर बोलते हैं I इनका क्रोध पर पूर्ण नियंत्रण होता है I यह लोग तामसिक प्रवृत्ति के नहीं होते I इनका चरित्र तथा आचरण पवित्र तथा सहज होता है I ये झूठी प्रशंसा, दिखावे से दूर रहने वाले तथा धार्मिक कार्यों में रूचि रखने वाले होते हैं I

यही कारण है कि गुरु जिस ग्रह को देखेगा वह भी बलवान हो जाएगा। ज्योतिष विज्ञान के अनुसार गुरु व्यक्ति के भाग्य का भी निर्णय करने वाले हैं। पाप ग्रह के साथ होने पर वकील जो कि झूठ की राह पर ही चलता है, भ्रष्ट नेता, सोने का स्मगलर, रिश्वतखोर अधिकारी, तांत्रिक बना सकता है


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You