वृष राशि के लिए कैसा रहेगा नया साल

  • वृष राशि के लिए कैसा रहेगा नया साल
You Are HereDharm
Friday, December 20, 2013-10:14 AM

आने वाला नया साल आपके लिए और आपके परिवार के लिए कैसा होगा यह जानने की उत्सुकता प्रत्येक व्यक्ति को होती है। पंजाब केसरी चन्द्र राशि के आधार पर आपको यह बताने की कोशिश कर रहा है कि आने वाला साल आपके लिए कैसा होगा। आमतौर पर राशि की गणना सूर्य और चन्द्र राशि के आधार पर होती है लेकिन भारतीय पराशर ज्योतिष में चन्द्र राशि को ही मान्यता है और जातक का नाम भी चन्द्र राशि के आधार पर ही तय होता है। यदि आपका नाम इ, उ, ए, ओ, व, वि, वे, वो  से शुरू होता है तो आपकी चन्द्र  राशि वृष है। वृष राशि के लिए आने वाला साल कुछ ऐसा रहेगा।  
                            
जनवरी

वृष 6 जनवरी तक राशि स्वामी भाग्य स्थान में होने से सोची योजनाओं में आंशिक सफलता मिलेगी। 6 जनवरी से वक्री शुक्र अष्टमस्थ होने से बनते कामों में विघ्न मानसिक तनाव, कार्य क्षेत्र में अकस्मात उलझनों का सामना रहेगा। स्वभाव में चिड़चिड़ापन, मन अशांत तथा स्वास्थ्य ढीला रहेगा।

फरवरी

वृष शुक्र अष्टमस्थ होने से विध्न बाधाओं के रहते धन प्राप्ति के साधन निर्वाह योग्य बनते रहेंगे परंतु खर्च अत्यधिक होने से परेशानी होगी। व्यवसाय में बनते कामों में विध्न बाधाएं, स्वास्थ्य में खराबी, गुप्त चिंता, वृथा भागदौड़ आलस्य में वृद्धि एवं महत्वपूर्ण कार्यों में संघर्ष का सामना रहेगा।

मार्च

वृष राशि स्वामी शुक्र भाग्यस्थान पर होने से कुछ रूके हुए कार्य बनेंगे। धनागमन के साधनों में वृद्धी होगी। विदेशी संबंधियों से मेलजोल एवं सहयोग प्राप्त होगा परंतु 24 मार्च से वृथा भागदौड़, स्वास्थ्य में गड़बड़, मन अशांत एवं असंतुष्ट रहेगा। विविध प्रकार के खर्च भी अधिक होंगे। शुक्रवार को श्री सूक्त का पाठ करना शुभ रहेगा।

अप्रैल
वृष राशि स्वामी शुक्र दशम स्थान में संचार करने से बनते कामों में अड़चने एवं व्यवसायिक परेशानियों का सामना रहेगा। आय के साधन बनते रहेंगे परंतु मानसिक तनाव गुप्त चिंता एवं वृथा भागदौड़ रहेगी। विलासादि कार्यों पर धन का खर्च अधिक रहेगा परंतु मासांत में वाहनादि सुख सुविधाओं में वृद्धि होगी। खुशी के अवसर भी मिलेंगे। स्वास्थ्य कुछ ढिला रहेगा।

मई
वृष राशिस्वामी शुक्र उच्चराशिगत होने से रूके हुए कार्यों में सफलता, धन लाभ एवं उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। प्रिय बंधुओं से मेल मिलाप एवं सुख साधनों पर धन का खर्च होगा। 24 मई से शुक्र द्वादशस्थ होने से स्वास्थ्य में गड़बड़, खर्च अधिक व वृथा मानसिक तनाव रहेगा।

जून
वृष 14 जून तक सूर्य का संचार तथा 17 जून तक राशिस्वामी शुक्र द्वादश भाव में होने से कार्य व्यवसाय में व्यस्तताएं बढ़ेंगी। अत्यधिक परिश्रम और संघर्ष के पश्चात ही आय के साधन बनेंगे। स्वास्थ्य ढीला गुप्त रोग व संतान संबंधी चिन्ता रहेगी। 18 जून से शुक्र स्वराशिगत होने से हालात में परिवर्तन होंगे। बिगड़े कामों में सुधार, पारिवारिक सुखों में वृद्धि होगी।

जुलाई
वृष मासारम्भ में राशिस्वामी शुक्र इसी राशि में संचार कर रहा है। जिससे समाज में मान सम्मान में वृद्धि तथा धन लाभ के दर्शन प्राप्त होंगे। विदेशादि जाने की योजना बनेगी। मानसिक तनाव, स्वास्थ्य ढिला और आंखों में कष्ट होने व खर्च होने के योग हैं।

अगस्त
वृष मासारम्भ में इस राशि पर मंगल की दृष्टि होने से आकस्मिक खर्चों में वृद्धी होगी। पूर्वार्द्ध भाग में अत्यन्त कठिन समस्याओं का सामना रहेगा। व्यर्थ की भागदौड़ एवं चिन्ताओं में भी वृद्धी होगी। उत्तरार्द्ध भाग में कोई बिगड़ा कार्य बन जाने से हालात में सुधार होंगे। खुशी के अवसर भी मिलेंगे।

सितम्बर

वृष पूर्वाद्ध भाग में सूर्य शुक्र सिंह राशिगत संचार करने से मिश्रित प्रभाव होगा। जिससे व्यवसाय की स्थिति मध्यम रहेगी। उलझनपूर्ण परिस्थितियों के बावजूद निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेंगे। 25 सितम्बर से शुक्र नीच राशिगत होने से संतान संबंधी चिन्ता एवं मानसिक परेशानी रहेगी।

अक्तूबर

वृष 18 अक्तूबर तक राशिस्वामी शुक्र नीच राशि में होने से संघर्ष पूर्ण परिस्थितियों के बावजूद निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेंगे। संतान संबंधी चिन्ता रहेगी। घरेलू उलझनें अधिक होंगी परंतु 19 अक्तुबर से अनेक उतार चढाव एवं परिवर्तनों का सामना रहेगा। स्वास्थ्य भी ढीला रहेगा। कार्तिक महात्म्य का पाठ करना शुभ रहेगा।

नवम्बर
वृष 2 नवम्बर से शनि की सप्तम दृष्टि होने से व्यवसाय में अत्यन्त संघर्षपूर्ण परिस्थितियों का सामना रहेगा। गृह कलह एवं तनाव बनेगा। सांझेदारी के कार्यों में हानि होगी। उत्तरार्द्ध में उलझनों के बावजूद पराक्रम में वृद्धी होगी। परिवार में खुशी के अवसर मिलेंगे। मांगलिक कार्यों पर धन का खर्च अधिक होगा।

दिसम्बर
वृष शनि की सप्तम दृष्टि एवं 5 दिसम्बर से शुक्र अष्टम में होने से परिवारिक एवं स्वास्थ्य संबंधी उलझनें बढ़ेंगी। आय संबंधि चिन्ता तथा आकस्मिक खर्च बढ़ेंगे। क्रोध एवं उत्तेजना से कोई बना हुआ कार्य बिगड़ने के योग है। श्री दुर्गा सप्तशति का पाठ करना शुभ होगा।

मिथुन राशि का राशिफल कल दिया जाएगा।


    

 
 
   


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You