सुख-समृद्धि प्राप्त करने के सपने को करें साकार

  • सुख-समृद्धि प्राप्त करने के सपने को करें साकार
You Are HereDharm
Thursday, December 19, 2013-7:51 AM

ईशान दिशा अर्थात ईश यानि भगवान का स्थान, बृहस्पति ईशान के स्वामी हैं और देवताओं के गुरु हैं। ज्योतिषशास्त्र में गुरू को धन, विद्या, संतान सुख एवं विवाह का कारक माना गया है। जीवन में सुख-समृद्धि प्राप्त करने के सपने को साकार रूप में परिवर्तित करने के लिए बेहतर होगा कि इस प्लैट के वास्तु-दोषों को सुधारने का प्रयत्न करे।

-  वास्तु विज्ञान में केले के पौधे को शुभ माना गया है। केले का पौधा ईशान कोण में लगाना चाहिए। इससे धन बढ़ता है।

- केले के समीप तुलसी का पौधा लगाने से शुभ प्रभाव में वृद्घि होती है।

- घर का मुख्य द्वार ईशान दिशा में शुभकारी होता है।

- कटे ईशान के दुष्प्रभाव को कम करने के लिए साधु पुरुषों को बेसन की बनी बर्फी या लड्डुओं का प्रसाद बांटना चाहिए।

- ईशान में पूजा-स्थल बनाना लाभदायक होने की अपेक्षा हानिकारक होता है।

- ईशान में विधिपूर्वक बृहस्पति यंत्र की स्थापना करें।

- अपने शयन कक्ष की ईशान दिशा की दीवार पर भोजन की तलाश में उड़ते शुभ पक्षियों का एक सुंदर चित्र लगाएं।

- ईशान कोण के भाग को रोज ही साफ रखें। यहां कूड़ा-करकट आदि नहीं रखें। झाडू भी इस स्थान पर न रखें।

- ईशान दिशा में भवन के सामने ऊंचे टीले या ऊंचा निर्माण नहीं होना चाहिए। अन्यथा धन व संतान सुख में हानि होती है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You