ब्रहस्पतिवार को करें ये उपाय और बिगड़े काम बनाएं

  • ब्रहस्पतिवार को करें ये उपाय और बिगड़े काम बनाएं
You Are HereDharm
Thursday, January 16, 2014-9:50 AM
साधारण रूप लिए सस्ते उपायों द्वारा अपार कष्टों का शमन करने की विधि को टोटके कहा जाता है। गुरु के दुष्प्रभाव निवारण के लिए किए जा रहे टोटकों हेतु गुरुवार का दिन, गुरु के नक्षत्र (पुनर्वसु, विशाखा, पूर्व-भाद्रपद) तथा गुरु की होरा में अधिक शुभ होते हैं।

* जन्म कुंडली में ब्रहस्पति ग्रह अशुभ प्रभाव दे रहा हो तो समस्त वंश के सभी सदस्य जिनका आपस में खून का रिश्ता हो वह एक समान रकम किसी भी धर्म मंदिर में दान दें जिससे अनिष्टता दूर होगी।

* ब्रहस्पति ग्रह की अनुकूलता पाने के लिए पीपल के वृक्ष का पालन पोषण करें।

* गुड़, हल्दी, आटे में मिलाकर ब्रहस्पतिवार के दिन गाय को खिलाएं।

* लड्डूगोपाल की पूजा करें।

* ब्रहस्पतिवार के दिन केसर, हल्दी, दाल, चना और सोना दान करें।

* ब्रह्मा जी ब्रहस्पति ग्रह से संबंधित देवता हैं और संतानहीन महिला को संतान प्रदान करते हैं। अगर इस ग्रह के अशुभ प्रभाव से संतान की प्राप्ति न हो रही हो तो श्री हरि की पूजा अर्चना करें।

* ब्रहस्पति ग्रह को खुश करने के लिए सुबह स्नान के पश्चात अपनी नाभि में केसर लगाएं।

* ब्रहस्पति ग्रह को बल देने के लिए केले के पौधे की जड़ को ब्रहस्पतिवार के दिन पीले धागे में धारण करें।

* विवाह में बाधा, अपनों से वियोग, घर में तनाव, घर से विरक्ति होती हो तो श्रीमद भागवत का पाठ, हरी पूजन व गुरुवार का व्रत करें।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You