क्या आप पर मंडरा रहा है कोर्ट, कचहरी का साया?

  • क्या आप पर मंडरा रहा है कोर्ट, कचहरी का साया?
You Are HereDharm
Wednesday, February 12, 2014-7:54 AM

जीवन में कई बार ऐसे हालत बन जाते हैं जब हमें कोर्ट कचहरी के चक्कर काटने पड़ते हैं। कोर्ट कचहरी में चलने वाले मुकदमें बहुत लम्बे चलते हैं। कई बार तो यह एक पीढ़ी से लेकर दूसरी पीढ़ी तक चलते हैं। ज्योतिष के मतानुसार विभिन्न ग्रह योगों और उनकी स्थिति के मुताबिक ही हमें शुभ-अशुभ फल प्राप्त होते हैं। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में कोई अशुभ ग्रह योग हो तो उसे मुकदमें के दौरान बहुत सी परेशानियों को सहन करना पड़ता है। इन बुरे प्रभावों से बचने के लिए निम्न उपाय करें

1 कोर्ट जाते समय चावल के कुछ दानें अपने साथ ले जाएं। जिस कमरे में आपके मुकदमे की कार्यवाही चल रही हो उन चावलों को उस कमरे के बाहर फेंक दें। ध्यान  रखें की आपको चावल ले जाते हुए अथवा कोर्ट में फेंकते हुए कोई देखें नहीं। इस उपाय को गुप्त रूप से करें।  

2 श्री हनुमान जी का पर्वत उठाए हुए चित्र अथवा श्री स्वरूप के सामने शुक्ल पक्ष के मंगलवार को निम्नलिखित चौपाई का रूद्राक्ष की माला से प्रतिदिन दो माला जाप करें। ऐसा करने से मुक़दमे में विजय के साथ साथ सभी क्लेशों का नाश होगा।

‘पवन तनय बल पवन समाना
बुद्धि विवेक विग्यान निधाना।
कवन सो काज कठिन जग माहि
जो नहि होई तात तुम पाहिं।

3 पंडित से शुभ मुहूर्त निकलवाएं और उस मुहूर्त में श्री कार्य सिद्धि यन्त्र खरीद कर घर ले आएं। भोजपत्र पर किसी बारीक तीले से लाल चन्दन को स्याही का रूप देते हुए अपनी मनोकामना लिखें। गुलाब की खुशबू से र्निमित ग्यारह अगरबत्तियां लेकर आरती करें और कोई शुभ काम करने का संकल्प लें। मनोकामना लिखित भोज पत्र को चार तह बनानें के उपरांत कार्यसिद्धि यन्त्र के नीचे रख दें और प्रतिदिन गुलाब की खुशबू से र्निमित पांच अगरबत्तियां लेकर 21 बार अपनी मनोकामना का उच्चारण मन ही मन करें। फिर उन अगरबत्तियों को घर के मुख्य द्वार पर लगा दें।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You