यह शक्ति आप को किसी भी काम के लिए बाध्य कर सकती है

  • यह शक्ति आप को किसी भी काम के लिए बाध्य कर सकती है
You Are HereDharm
Friday, March 07, 2014-7:28 AM

कुरआन शरीफ

   ‘ऐ ईमान वालो! अल्लाह के लिए औचित्य पर जमे रहो और न्याय की गवाही दो, देखो! ऐसा न हो कि किसी वर्ग की दुश्मनी तुम्हें न्याय के मार्ग से रोक दे, न्याय करो, यही ईश-परायणता से अधिक निकट है।’                                                                   (कुरआन 5 : 8)

  ‘ऐ इंसानो! हमने तुम्हें एक ही माता-पिता से पैदा किया है, और तुम्हारे जाति-कबीले केवल इसलिए बनाए कि तुम एक-दूसरे को पहचान सको। वास्तव में, अल्लाह (ईश्वर) के निकट तुम में सबसे अधिक प्रिय वह है जो उससे सबसे अधिक डरता है। निश्चय ही अल्लाह सब कुछ जानने वाला और खबर रखने वाला है।  
                                                                                                                                                                           (कुरआन : 49 :13)

इस्लाम में सामाजिक न्याय तीन बुनियादी बातों पर आधारित है-अंतरात्मा की पूर्ण स्वतंत्रता, सभी इंसानों की पूर्ण समानता और समाज के सदस्यों के बीच आपसी निर्भरता। हर व्यक्ति यह अनुभव करे कि ईश्वर के सिवा कोई शक्ति नहीं जो उसे किसी काम के लिए बाध्य कर सके। सभी व्यक्ति दूसरे व्यक्ति का सम्मान करें और कोई किसी को ऊंचा या नीचा न समझे। अन्तिम ईशदूत हजऱत मुहम्मद स. ने कहा था ‘लोगो! तुम्हारा पिता भी एक है और तुम्हारा रब भी एक ही है। तुम सब आदम की संतान हो जो मिट्टी से बनाए गए थे। किसी अरब को ग़ैर अरब पर, किसी ग़ैर अरब को अरब पर, किसी गोरे को काले पर, काले को गोरे पर कोई श्रेष्ठता नहीं है सिवाय ईश-परायणता के। तुम में ईश्वर के निकट श्रेष्ठ वह है जो अधिक ईश-परायण है।’
                                                                                                                                                                             -हदीस: बुख़ारी

इस्लाम में ‘ज़कात’ की व्यवस्था है। धनवानों का कर्तव्य है कि वे वंचितों और नि:शक्तों की सहायता के लिए अपने धन में से निश्चित रक़म दें ताकि उनकी बुनियादी जरूरतें पूरी की जा सकें। शान्ति की स्थापना तभी संभव है जब हर एक शख्स को इंसाफ मिले।

                                                                                                             -डॉ. मोहम्मद इकबाल सिद्दीकी, इस्लामी विद्वान, जयपुर


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You