क्या इस प्रयास से कन्या भ्रूण हत्या को रोकना संभव हो पाएगा?

  • क्या इस प्रयास से कन्या भ्रूण हत्या को रोकना संभव हो पाएगा?
You Are HereDharm
Tuesday, April 08, 2014-2:49 PM

करनाल में नवमी पर एक साथ 251 कंजको का पूजन किया गया और कन्या भ्रुण हत्या न करने की भी शपथ ली गई। नवरात्रों के समापन पर आज नवमी के दिन करनाल में सामूहिक रूप से 251  कन्याओं  का एक साथ कन्या पूजन किया गया। जय मां  झंडेवाली  समिति की तरफ से सामूहिक कन्या पूजन किया गया। जिसका मुख्य उद्देश्य लोगों को कन्या भ्रुण हत्या के प्रति जागरूक करना था।

भारत में आज से नहीं, लगभग दो दशकों पहले से ही भ्रूण हत्या की शुरूआत हो गई थी। जन्म लेने जा रहे बच्चों में किसी प्रकार की विकृति हो, जिससे शिशु दुनियां में आ कर मानसिक विकृति या शारिरिक विकृतियां भोगे, वैसी हालत में उस शिशु को दुनिया में लाने या न लाने के बारे में हम सोच सकते हैं लेकिन दुनिया में आ रही संतान बेटी है उसकी हत्या पाप है, अपराध है ।

 हरियाणा प्रदेश में जहां पर लिंग अनुपात में भारी असमानता है। जहां पर लड़को की चाहत में लोग लडकियों को जन्म लेने से पहले ही कोख में मार डालते हैं उस समाज के लिए नवरात्रों में 251  कन्यायों का पूजन कर करनाल की इस धार्मिक संस्था  ने लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया है। बेटी क्या है इसे कमजोर मत समझो। इसी पर दुनिया टिकी है, बेटी ही प्रकृति है लेकिन पुरुष प्रधानगी का जुनून, हमारा समाज बेटी को बोझ के सिवा और कुछ नहीं समझता ।

हरियाणा में जहां पर लिंगानुपात में भारी अंतर पैदा हो रहा है वहीं हरियाणा के समाज में कन्यायों को जन्म से पहले ही मार दिया जाता है। जिसके परिणाम स्वरूप लिंग अनुपात में भारी अंतर पैदा हो गया है। हरियाणा के उसी समाज में कन्यायों का पूजन भी नवरात्रों के दिनों में किया जाता है। लोगों की भारी आस्था जुड़ी है इसके साथ कन्यायों का पूजन मां के नौं रूपों का पूजन माना जाता है।

 श्रद्धा से लोग इस दिन कन्यायों को पूजते हैं भोजन करवाते हैं दान, पुण्य दे कर सीधे मां के नौं रूपों से आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। बस इसी आस्था को देखते हुए हर वर्ष की  भांति आज एक साथ 251 कन्यायों का पूजन कर समाज के जहन में यह सन्देश दिया गया की जिस समाज में कन्यायों का पूजन तो किया जाता है लेकिन उसी समाज में कन्या भ्रूण हत्या सर्वाधिक है यह घोर पाप है। भारत सरकार और अनेक राज्य सरकारों ने समाज में लड़कियों और महिलाओं की स्थिति सुधारने के लिए विशेष योजनाएं लागू की गई हैं वास्तविक जीवन में क्या उन्हें अमली जामा पहनाया जा रहा है?


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You