छठ पर्व पर करें इन फूलों से सूर्यदेव की पूजा, पूर्ण होगी हर मनोकामना

  • छठ पर्व पर करें इन फूलों से सूर्यदेव की पूजा, पूर्ण होगी हर मनोकामना
You Are HereJyotish
Sunday, November 06, 2016-11:09 AM

सूर्य से ही पृथ्वी पर जीवन है। सूर्य ग्रह को रव‌िवार का स्वामी अौर अन्य ग्रहों का राजा कहा जाता है। सूर्य देव सारी सृष्टि के ऊर्जा और प्रकाश के कारक हैं। उन्हें प्रसन्न करना बेहद आसान है। छठ पूजा चार दिवसीय उत्सव है। इन दिनों मुख्य रुप से भगवान सूर्यदेव की पूजा होती है। धर्म ग्रंथों के अनुसार यदि सूर्यदेव की पूजा विशेष फूलों से की जाए तो विभिन्न फलों की प्राप्ति होती है। 

 

* सूर्यदेव को कनेर के फूल अति प्रिय लगते हैं। जो व्यक्ति इन फूलों से सूर्यदेव की पूजा करता है वह सूर्यदेव का अति प्रिय हो जाता है। उसे जीवन में सभी सुखों की प्राप्ति होती है अौर अंत समय वह स्वर्ग में निवास करता है। 

 

* सूर्यदेव को अलग-अलग फूल अर्पित करने से भिन्न-भिन्न सुखों की प्राप्ति होती है। सूर्यदेव को सफेद कमल अर्पित करने से सौभाग्य, कुटज के फुष्प चढ़ाने से ऐश्वर्य मिलता है। मंदार के फूल अर्पित करने से कुष्ठ रोग से मुक्ति मिलती है। सूर्यदेव पर बिल्व पत्र अर्पित करने से धन-समृद्धि की प्राप्ति होती है। 

 

* इसके अतिरिक्त सूर्यदेव को मौलसिरी के पुष्पों की माला अर्पित करने से गुणवती कन्या से विवाह होता है। पलाश के फूल चढ़ाने से संकटों से मुक्ति मिलती है। सूर्यदेव की बेला के फूलों से पूजन करने पर व्यक्ति को सूर्यलोक की प्राप्ति होती है। 

 

* अक्षय पुण्य की प्राप्ति के लिए सूर्यदेव को 1 हजार कमल के फूल अर्पित करने चाहिए। मल्लिका के फूल चढ़ाने से संपूर्ण सुखों की प्राप्ति होती है। 

 

* सूर्यदेव को मंदिर में शुद्ध घी का दीपक प्रज्वलित करने से नेत्र संबंधी रोग नहीं होते। महुए के तेल से दीपक प्रज्वलित करने से सौभाग्य मिलता है। इसके अतिरिक्त तिल के तेल का दीपक जलाने से सूर्यलोक की प्राप्ति होती है। 

 

* प्रत्येक कामना की पूर्ति के लिए लाल चंदन से सूर्यदेव की पूजा करनी चाहिए। सूर्यदेव को चमेली के फूल अर्पित करने से रोगों से मुक्ति मिलती है। कुमकुम से पूजा करने पर सूर्यदेव अति प्रसन्न होते हैं। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You