जप और होम का सौ गुना अधिक फल पाने के लिए करें ध्रुव तीर्थ की यात्रा

  • जप और होम का सौ गुना अधिक फल पाने के लिए करें ध्रुव तीर्थ की यात्रा
You Are HereDharm
Wednesday, November 23, 2016-3:07 PM

श्री ध्रुव जी की स्मृति के सरंक्षण के लिये यहां पर बरामदे वाले एक मंदिर का निर्माण हुआ है। मंदिर में चतुर्भुज पद्मपलाशलोचन श्रीनारायण, श्रीगोपालदेव तथा श्रीशालीग्राम जी विराजित हैं। मन्दिर के पश्चिम प्रकोष्ठ में नारद जी तथा ध्रुव जी की मूर्ति भी पूजित हो रही है।


महाराज उत्तानपाद के ज्येष्ठ पुत्र ध्रुव जी पांच वर्ष की अवस्था में अपनी सौतेली माता के वाक्य बाणों से बिंधकर तथा अपनी माता सुनीति देवी से भगवत्-प्राप्ति का उपाय जानकर पिता से भी बड़े राज्य को प्राप्त करने की अभिलाषा से तपस्या करने के लिये महल से निकल पड़े।

 

'कहां पद्मपलाशलोचन हरि' भगवान के इस नाम को व्याकुलता से पुकारते-पुकारते ध्रुव जी तन्मय हो गये थे। इधर भगवान श्रीहरि की प्रेरणा से उनके प्रियजन श्रीनारद गोस्वामी पहले उत्तानपाद जी की राजधानी में गये, तत्पश्चात हिंसक जानवरों से भरे जंगल में जाकर ध्रुव जी को मिले। ध्रुव जी से मिलकर पहले नारद जी ने कई प्रकार से उनकी परीक्षा ली परन्तु ध्रुव जी की हरिभजन में निष्ठा से सन्तुष्ट होकर नारद जी ने उन्हें द्वादक्षर मन्त्र प्रदान किया।

 

श्रीनारग गोस्वामी जी ने उपदेशानुसार ध्रुवजी ने मधुवन में तीव्र तपस्या करके सिद्धि प्राप्त की थी तथा चतुर्भुज नारायण भगवान के दर्शन करके कृत-कृतार्थ हो गये थे। जिससे राज्य की अभिलाषा सम्पूर्ण रूप से उनके हृदय से अन्तर्हित हो गयी।

 

ध्रुव जी जिस घाट पर स्नान करते थे, वह चौबीस घाटों में से ही एक घाट है, जो कि ध्रुव घाट के नाम से प्रसिद्ध है। गया में पिण्ड दान करने से लोगों को जो फल मिलता है, ध्रुव तीर्थ में पिण्ड दान करने से उसका सौ गुना ज्यादा फल मिलता है। इस ध्रुवतीर्थ पर जो लोग जप, होम, तपस्या, दान या अर्चन करते हैं, उन्हें अन्यान्य सभी तीर्थों की अपेक्षा सौ गुना अधिक फल मिलता है। 


श्री चैतन्य गौड़िया मठ की ओर से
श्री भक्ति विचार विष्णु जी महाराज
bhakti.vichar.vishnu@gmail.com

 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You