मालामाल बनना चाहते हैं तो करें इस मंदिर के दर्शन, प्रसाद में मिलेंगे सोने, चांदी के जेवर (Pics)

You Are HereDharmik Sthal
Friday, November 25, 2016-10:45 AM

मध्यप्रदेश के रतलाम में महालक्ष्मी का एक ऐसा मंदिर स्थित है जहां भक्तों को प्रसाद के रुप में गहने मिलते हैं। देवी लक्ष्मी के इस मंदिर में सारा साल भक्तों का तांता लगा रहता है लेकिन साल में कुछ दिन यहां कुबेर का दरबार लगता है। भक्त य़हां आकर करोड़ों रुपए की नकदी अौर जेवर अर्पित करते हैं। खासतौर पर धनतेरस से लेकर दीपावली के दिन देवी लक्ष्मी का मंदिर सोने, चांदी अौर नोचटों से सजा नजर आता है।  

 

इस दौरान आने वाले भक्त खाली हाथ नहीं लौटते। यहां दीपीवली के दिनों में आने वाले भक्तों को प्रसाद के रुप में चढ़े गहने अौर रुपे भक्तों में बांट दिए जाते हैं। इस प्रसाद को पाने के लिए भक्त बहुत दूर-दूर से यहां आते हैं। यहां मिलने वाले प्रसाद को भक्त शगुन अौर शुब मानकर सदैव अपने पास रखता है। मंदिर में अर्पित चढ़ावे का हिसाब रखा जाता है ताकि भक्तों को उनका पैसा मिल सके। सुरक्षा के हिसाब से यहां सीसीटीवी कैमरे के साथ पुलिस का भी सख्त पहरा है। 

 

लक्ष्मी मंदिर के अतिरिक्त श्रीगणेश चतुर्थी के दौरान स‌िद्ध‌ि व‌िनायक मंद‌िर में भी भक्तों को चांदी के सिक्के दिए जाते हैं। लेकिन यहां भक्तों को सिक्के तभी दिए जाते हैं श्रीगणेश जी को काफी मात्रा में सिक्के चढ़ाए गए हों। भक्तों द्वारा चढ़ाए सिक्के उन्हीं में बांट दिए जाते हैं। 

 

इसके अतिरिक्त वैष्णों देवी के दर्शनों के बाद भी छोटा सा सिक्का भक्तों को दिया जाता है। इस सिक्के पर माता वैष्णों की पिंड़ी अंकित होती है। इनके इलावा देश के कई प3सिद्ध मंदिर मंदिर है, जहां सोने चांदी के सिक्कों वाला प्रसाद खरीदा अौर बेचा जाता है। झारखंड के बाबा बैजनाथ मंदिर में दीपावली अौर धनतेरस के अवसर पर मंद‌िर का च‌ित्र अंक‌ित सोने, चांदी के सिक्के बेचे जाते हैं। भक्त इन सिक्को को अपने घरों मे संभालकर रखते हैं। भक्तों का मानना है कि इनसे घर में बरकत आती है। 
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You