जिस घर में हों इन चीजों का अभाव, वहां भूलकर भी न जाएं मेहमान बनकर

  • जिस घर में हों इन चीजों का अभाव, वहां भूलकर भी न जाएं मेहमान बनकर
You Are HereDharm
Friday, May 19, 2017-10:47 AM

मनुस्मृति को हिन्दू धर्म का सबसे महत्वपूर्ण एवं प्राचीन धर्मशास्त्र माना गया है। स्वायंभुव मनु द्वारा लिखित शास्त्र मनुस्मृति भारतीय आचार-संहिता का विश्वकोश है। इस ग्रंथ में ब्रह्मा जी के पुत्र मनु महाराज ने ऋषियों को उपदेश दिया है। इन नीतियों का पालन करने से व्यक्ति जीवन में कई लाभ प्राप्त कर सकता है। मनुस्मृति के एक श्लोक में मेहमानों से संबंधित कई नियमों का उल्लेख किया है। इसमें बताया गया है कि किसी के घर में कौन सी चार चीजें न होने पर वहां मेहमान बनकर नहीं रुकना चाहिए।

श्लोक
आसनाशनशय्याभिरद्भिर्मूलफलेन वा।
नास्य कश्चिद्वसेद्गेहे शक्तितोनर्चितोअतिथिः।।

आसन

किसी के घर मेहमान बनकर जाएं अौर वहां पर आपको  बैठाने के लिए आसन न हो तो समझ लेना चाहिए कि उस घर में मूलभूत सुविधाअों का अभाव है। ऐसी स्थिति में वहां अधिक देर तक रुकने से उसके मन में हीन भावना आ सकती है, इसलिए वहां अधिक देर तक नहीं रुकना चाहिए।

भोजन
कोई व्यक्ति घर आए मेहमान को भोजन करवाने में असमर्थ है तो उसके घर भूलकर भी नहीं जाना चाहिए। यदि कभी जाना भी पड़ जाए तो वहां अधिक समय तक न रुके। ऐसे व्यक्ति के घर मेहमान बनकर अधिक देर तक रुकने से उसे आपके भोजन के लिए किसी से उधार मांगना पड़ सकता है। इसलिए जो व्यक्ति घर आए मेहमान को भोजन करवाने में असमर्थ है उसके घर अधिक देर तक नहीं रुकना चाहिए।

पलंग
मनु स्मृति के अनुसार जिस व्यक्ति के घर में सोने के लिए उचित प्रबंध न हो तो वहां अधिक समय तक नहीं रुकना चाहिए। ऐसे में मेहमान का ठीक ध्यान न रख पाने के कारण उनके मन में ग्लानि का भाव आ सकता है। इसलिए जिस व्यक्ति के घर सोने का उचित प्रबंध न हो वहां पर अधिक देर तक नहीं रुकना चाहिए।

पानी
जिस व्यक्ति के घर में प्यास बुझाने के लिए पानी का प्रबंध न हो, वहां पर मेहमान बनकर नहीं रुकना चाहिए। ये बात भविष्य में पानी की समस्या को देखते हुए कही गई है। कई स्थानों में पीने के पानी के लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है। जो लोग इन समस्याअों से जूझ रहे हैं उनके घर मेहमान बनकर रहा जाए तो उनके लिए अतिरिक्त पानी की व्यवस्था करनी पड़ती है। आपके वहां रुकने से उनकी समस्या अोर बढ़ सकती है इसलिए जहां पानी की कमी हो वहां नहीं रुकना चाहिए।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You