नरक चतुर्दशी: इस तरीके से करें स्नान, स्वस्थ तन के साथ मिलेगा मनचाहा धन

  • नरक चतुर्दशी: इस तरीके से करें स्नान, स्वस्थ तन के साथ मिलेगा मनचाहा धन
You Are HereJyotish
Friday, October 28, 2016-10:44 AM

कल शनिवार 29 अक्टूबर पंच महोत्सव का दूसरा दिन है, जो नरक चतुर्दशी के नाम से जाना जाता है। इस दिन मृत्यु के देवता यमराज का पूजन करने का विधान है। प्राचीनकाल से बड़े-बुजुर्ग नरक चौदस के दिन तारों की छांव में उठकर स्नान करने की सलाह देते हैं। आयुर्वेद की मान्यता के अनुसार जो व्यक्ति इस खास दिन पर विशेष औषधियों से स्नान करता है उसके तन को कोई रोग नहीं लगता और किसी भी तरह की आर्थिक तंगी का सामना भी नहीं करता। अपनी राशि के अनुसार स्नान के पानी में डालें ये सामान मिलेगा स्वस्थ तन के साथ मनचाहे धन का वरदान


मेष: बिल्व पत्र के वृक्ष की छाल और लाल रंग का चंदन।


वृष: थोड़ी सी मैनसिल और छोटी इलायची।


मिथुन: गाय के गोबर का जल को स्पर्श करवाकर स्नान करें।


कर्क: सफेद चंदन


सिंह: लाल रंग फूल और केसर।


कन्या: मोती और सोने के गहनों का जल। 


तुला: केसर और खुशबूदार फूल।


वृश्चिक: लाल रंग के फूल।


धनु: मालती के पुष्प


मकर: काले तिल


कुंभ: शमी पेड़ की लकड़ी पानी में डालें।


मीन: मालती के पत्ते और पीली सरसों।


अभ्यंग स्नान मुहूर्त- 05:11 से 06:39

अवधि- 1 घण्टा 27 मिनट्स

चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ- 28/अक्टूबर/2179 को 21:13 बजे

चतुर्दशी तिथि समाप्त- 29/अक्टूबर/2179 को 17:30 बजे


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You