16 दिसंबर को होगी शनि की युति, 3 राशियों को मिलेगी बंपर सफलता

You Are HereDharm
Friday, December 15, 2017-3:09 PM

साल की 12 संक्रांतियों में से नौवीं संक्रांति को धनु संक्रांति कहते हैं। यह पौष माह में पड़ने वाली संक्रांति है। इसमें सूर्य वृश्चिक से धनु में प्रवेश करते हैं। वर्ष 2017 में पौष माह में पड़ने वाली संक्रांति 16 दिसंबर 2017 में पड़ रही है। इस साल विशेष रूप से शनिवार को पड़ने वाली ये संक्रांति बहुत विशेष मानी जाएगी। इसका प्रभाव देश और परिवहन पर सर्वाधिक रूप से पड़ेगा। इस संक्रांति का सबसे अधिक प्रभाव शनि से संबंधित प्रोफेशन और वस्तुओं पर पड़ेगा। 


ज्योतिष के पंचांग खण्ड के अनुसार वर्तमान में शनि धनु राशि में गोचर कर रहा है। शनि अभी मूल नक्षत्र के दूसरे चरण में हैं। इसके साथ सूर्य सुबह 7.11 मिनट पर मूल नक्षत्र में प्रवेश कर जाएगा। तभी से शनि का अस्तकाल आरंभ हो जाएगा। शनि के अस्त होने के कारण सामाजिक ताना बाना बिगड़ने के आकार हैं। शनि 4 दिसंबर 2017 से 8 जनवरी 2018 तक अपनी अर्थव्यवस्था में रहेगा। जिसके कारण कच्चे तेल की किमतों में गिरावट देखने को मिल सकती है। इसके साथ ही सीमावर्ती देशों से तनाव की स्थिती बन सकती है। शनि का अस्तकाल जहां एकतरफ सत्ता को सशक्त करेगा वहीं दूसरी ओर सरकार पर जनता और विरोधी पक्ष का रोष निकल सकता है। इसी दौरान ऐसी संभावना है भारत के पश्चिमवर्तीय राज्यों में किसी प्राक़तिक घटना के होने की आशंका भी है। यह समय कठिन रह सकता है। न्यायपालिका द्वारा सरकार के विरूद्ध कुछ फैसले सुनाए जा सकते हैं। 


शनि के अस्त काल से कुछ राशियों पर अच्छा और कुछ पर बुरा प्रभाव पड़ेगा। वृश्चिक धनु और मकर पर शनि के कुप्रभाव कम होंगे, बंपर सफलता के द्वार खुलेंगे। वृष-वृश्चिक, कन्या-धनु और मकर पर शनि का कुप्रकभाव कम होगा। वहीं दूसरी ओर तुला-मिथुन और मीन राशि पर शनि के अच्छे प्रभाव कम होंगे।

आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com

Edited by:Aacharya Kamal Nandlal
अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You