350 साल पुराना है यह शनि मंदिर, यहां महिलाएं स्वतंत्र होकर अर्पित करती हैं तिल-तेल

  • 350 साल पुराना है यह शनि मंदिर, यहां महिलाएं स्वतंत्र होकर अर्पित करती हैं तिल-तेल
You Are HereDharm
Friday, April 14, 2017-11:46 AM

कई शनि मंदिरों में महिलाअों का जाना वर्जित होता है। लेकिन इंदौर के जूनी इंदौर में स्थित शनिदेव मंदिर में महिलाएं स्वतंत्र होकर तिल-तेल अर्पित करती है। यह शनिदेव मंदिर 350 साल पुराना है। माना जाता है कि जूनी इंदौर में स्थापित इस मंदिर में शनिदेव स्वयं पधारे थे। कई सालों तक इस मंदिर की बागडोर एक महिला पुजारी के हाथों में थी। कहा जाता है कि इस मंदिर में शनिदेव की पूजा में पुरुष अौर स्त्रियों के बीच कोई भेदभाव नहीं किया जाता है। हर शनिवार यहां भक्तों की लाईनें लगती है। 

कहा जाता है कि करीब 300 वर्ष पूर्व मंदिर के स्थान पर 20 फुट ऊंचा टीला था। जहां वर्तमान पुजारी के पूर्वज पंडित गोपालदास तिवारी आकर ठहरे थे। एक रात शनिदेव ने गोपालदास को सपने में दर्शन दिए, गोपालदास दृष्टिहीन थे और इस सपने के बाद उन्हें दिखाई देने लगा। सपने में​ मिले आदेश के अनुसार गोपालदास ने टीले की खुदवाई करवाई, तो उसमें से शनिदेव की एक प्रतिमा निकली। यही प्रतिमा आज यहां स्थापित है। कहा जाता है कि यहां मांगी गई मन्‍नत शनिदेव अवश्‍य पूर्ण करते हैं ।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You