चंद्रमा व शुक्र की युति जातक को दिलवाती है यश, फुटबाल खिलाड़ी को बनाया Star

  • चंद्रमा व शुक्र की युति जातक को दिलवाती है यश, फुटबाल खिलाड़ी को बनाया Star
You Are HereDharm
Wednesday, November 22, 2017-2:59 PM

अन्तर्राष्ट्रीय फुटबाल खिलाड़ी लियोनल मैसी को जीवन में आगे लाने में क्रूर ग्रह राहु ने ही अहम भूमिका अदा की थी। मैसी को 5 बार फीफा बैलेन अर्थात अवार्ड मिल चुके हैं। उन्हें चार बार यूरोपियन गोल्डन शू भी प्राप्त हुआ। वह अर्जेंटाइना नैशनल टीम का प्रतिनिधित्व करते हैं। मैसी का जन्म 24 जून 1987 को अर्जेंटाइना में हुआ था।


ज्योतिषी संजय चौधरी के अनुसार मैसी वृष लग्न में जन्मे तथा उनके लग्रेश शुक्र लगन में ही तीसरे घर के मालिक चंद्रमा के साथ बैठा हुआ है। तीसरा घर इंसान को खेलों में ऊपर ले जाता है। चंद्रमा व शुक्र की युति जातक को यश दिलवाती है। उन्होंने बताया कि जून 1991 से जून 1998 तक मैसी को मंगल की महादशा रही, जोकि उनकी कुंडली में 7वें व 12वें घर का स्वामी होकर दूसरे घर में बैठा था। मार्केश की दशा होने के कारण मैसी को बचपन में हार्मोन डैफीसैंसी जैसी समस्याओं से जूझना पड़ा। मैसी को राहु की महादशा जून 1998 में 18 वर्षों के लिए शुरू हुई जिन्होंने उनके जीवन को ही बदल दिया। राहु कुंडली में 11वें घर में बृहस्पति की राशि में विराजमान थे। जिन पर किसी भी क्रूर ग्रह की दृष्टि नहीं थी। 


उन्होंने कहा कि मैसी 2001 में बार्सीलोना शहर में अपने पिता के साथ आ गए । यहां उन्होंने खेलना शुरू किया। उनके करियर में उछाल 2003 में आया जब राहु महादशा में शनि की अन्तर्दशा शुरू हुई।18 वर्ष की आयु में ही 2005 में उनका नाम सीनियर टीम में आ गया। राहु हमेशा अप्रत्याशित लाभ देता है। मैसी ने 2009 में राहु-शुक्र के समय में अपनी बचपन के साथी रोकुजा के साथ प्रेम संबधों का खुलासा किया। राहु में चंद्रमा का समय आया तो उन्हें मानसिक परेशानियों से रूबरू होना पड़ा। उनका नाम पनामा पेपर्स में टैक्स चोरी मामले में सामने आया। 


जुलाई 2016 में मैसी व उनके पिता दोनों को टैक्स फ्राड के लिए दोषी करार दिया गया। उन्हें 1.7 मिलियन यूरो जुर्माना भी लगाया गया। 2016 में मैसी को बृहस्पति की महादशा शुरू हुई जोकि उनके 12वें घर में बैठा था, जो करियर से रिटायरमैंट को प्रदर्शित करता है। मैसी ने अपनी रिटायरमैंट ऐलान कर दी है पर 2018 विश्व कप खेलने के बाद वह सन्यांस ले लेंगे। इसलिए क्रूर माने जाने वाले राहु ने ही उनके जीवन को ऊपर लाने में मदद की। राहु के समय में ही मैसी ने सब कुछ पाया। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You