Subscribe Now!

गरुड़ पुराण: जीवन में पाना चाहते हैं सफलता तो जितना हो सके इन लोगों से रहें दूर

  • गरुड़ पुराण: जीवन में पाना चाहते हैं सफलता तो जितना हो सके इन लोगों से रहें दूर
You Are HereDharm
Wednesday, February 14, 2018-2:04 PM

सफलता प्राप्त करने में जितना महत्व परिश्रम का होता है, उतना ही हमारी आस-पास की संगत का भी होता है। यदि व्यक्ति की संगत अच्छी रहे तो मुश्किल से मुश्किल कार्य में भी सफलता प्राप्त की जा सकती है। इसके विपरीत अगर व्यक्ति की संगत ही अच्छी न हो तो इसका पूरा असर उसके जीवन पर पड़ता है। जिसके कारण वो सब कुछ प्राप्त नहीं पर पाता जो वह हासिल करना चाहता होता है। इसके संबंध में गरुड़ पुराण में बताया गया है कि व्यक्ति को सफल जीवन जीने के लिए किन लोगों की संगत से बचना चाहिए। 

आगे जानें किन लोगों से दूरी बनाकर रखने से सफलता पाई जा सकती है। 


आलसी लोगों से बचें
जो लोग आलसी होते हैं, उनसे किसी काम की उम्मीद करना ही असफलता की ओर पहला कदम होता है। यदि आस-पास कोई आलसी व्यक्ति होता है तो वह न तो खुद ठीक से काम करेगा और न ही दूसरे व्यक्ति को जल्दी काम करने देगा। ऐसे में हमारा समय भी बर्बाद होगा और हम लक्ष्य से दूर हो जाएंगे।


दिखावा करने वाले लोग
आजकल तो लोग असलियत में ज्यादा मानते हैं। इस कारण हमारे इर्द-गिर्द एेसे बहुत लोग होते हैं जो दिखावा ज्यादा करते हैं, लेकिन काम कम करते हैं। इनसे बचने में ही बेहतरी है। ऐसे लोगों का एक मात्र उद्देश्य होता है, दूसरों का आकर्षण पाना। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए वे दूसरों को नीचा दिखाने में भी संकोच नहीं करते हैं। इसलिए इनसे जितना हो सके बचना चाहिए।


फालतू बातें करने वाले लोग
कुछ लोगों की आदत होती है कि वे अधिकतर फालतू या बिना मतलब की बातें ज्यादा करते हैं। ऐसे लोग हमारा समय बर्बाद करते हैं और कार्यों में बाधा भी बन सकते हैं। ऐसे लोग साथ रहेंगे तो काम समय पर पूरा होगा, इसकी संभावनाएं बहुत कम रहती हैं।


हमेशा नकारात्मक सोचने वाले लोग
जो लोग हमेशा डरते रहते हैं, किसी भी काम में पहले नकारात्मक सोचते हैं, वे न तो खुद आगे बढ़ पाते हैं और न ही दूसरों की मदद कर पाते हैं। ऐसे लोग यदि हमारे आसपास रहेंगे तो हमारी सोच भी नकारात्मक हो सकती है। इसकी वजह से हम कोई भी काम ठीक से नहीं पाएंगे। 


हमेशा भगवान या भाग्य को कोसने वाले लोग
जो लोग खुद कुछ नहीं कर पाते हैं, वे अक्सर भगवान को या अपने भाग्य को दोष देते हैं। जबकि भगवान उन लोगों की ही मदद करते हैं जो खुद काम करते हैं। ये लोग हमारे आसपास रहेंगे तो अपनी दुखभरी कहानी सुना-सुनाकर हमारा समय बर्बाद करेंगे। इसलिए इनसे भी जितना हो सके बचना चाहिए।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You