बुधवार को करें ये काम: बुढ़ापे से रहेंगे कोसों दूर, जीवन में भरेगा नया जोश

  • बुधवार को करें ये काम: बुढ़ापे से रहेंगे कोसों दूर, जीवन में भरेगा नया जोश
You Are HereMantra Bhajan Arti
Tuesday, November 08, 2016-9:42 AM

बुध ग्रह को भगवान विष्णु का प्रतिनिधि कहा जा सकता है इसलिए धन, वैभव आदि का संबंध बुध से है। बुध की दिशा उत्तर है तथा उत्तर दिशा कुबेर का स्थान भी है। बुध को कई महत्वपूर्ण तथ्यों का कारक ग्रह माना गया है जैसे वाणी का कारक, बुद्धि का कारक, त्वचा का कारक, मस्तिष्क की तंत्रिका तंत्र का कारक आदि।


बुध से प्रभावित जातक हंसमुख, कल्पनाशील, काव्य, संगीत और खेल में रुचि रखने वाले, शिक्षित, लेखन प्रतिभावान, गणितज्ञ, वाणिज्य में पटु और व्यापारी होते हैं। यदि आपके घर में आय से अधिक व्यय हो रहा है, आए दिन घर में कलेश मच रहा है, तो बुध ग्रह के पूजन से राहत मिल सकती है क्‍योंकि अपने जीवन में कुछ उपायों को अपनाकर बुध ग्रह का अशुभ प्रभाव दूर करने के साथ-साथ विद्या, धन, लाभ एवं व्यापारिक उन्नति व स्वास्थ्य लाभ मिल सकता है। कुण्डली में बुध ग्रह की अशुभता को कुछ उपायों से कम किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त बुढ़ापे से कोसों दूर रहेंगे जिससे जीवन में नया जोश आएगा।


1 बुध ग्रह की प्रसन्नता के लिए भगवती दुर्गा की पूजार्चना करनी चाहिए।

2 किन्नरों की सेवा करें।

3 हरे मूंग भिगोकर पक्षियों को दाना डालें।

4 पालक या हरा चारा बुधवार के दिन गायों को खिलाएं।

5 पक्षियों विशेष कर तोते को पिजरें से स्वतंत्रता दिलाएं।

6 नौ वर्ष से छोटी कन्या के पैर धोकर उनको प्रणाम करके आशीर्वाद प्राप्त करें।

7 बुधवार का व्रत रखें।

8 मां भगवती दुर्गा का पूजार्चन करें।

9 मंत्रानुष्ठान करके बुध की अनुकंपा प्राप्त करें।
ऊँ बुधाय नम:
ऊँ दुर्बुद्धिनाशनाय नम:
ऊँ सुबुद्धिप्रदाय नम:
ऊँ सौम्यग्रहाय नम: 
ऊँ सर्वसौख्यप्रदाय नम: 
ऊँ सोमात्मजाय नम:


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You