खुद में पैदा करें ये तीन भाव, पाएंगे कि सब कुछ संभव है

  • खुद में पैदा करें ये तीन भाव, पाएंगे कि सब कुछ संभव है
You Are HereDharm
Monday, November 27, 2017-9:53 AM

जागरूकता
आप और दुनिया एक है, यह जान लेना ही जागरूकता है। आप जो चाहते हैं वही दुनिया भी चाहती है। यह तभी सत्य हो सकता है, जब आप इसमें विश्वास करें। अगर आप जागरूकता के सही तरीकों का पालन करेंगे तो दुनिया भी आपकी योजनाओं को पूरा करने में मदद करेगी। भगवान हमें सपने देता है किंतु यह आपका उत्तरदायित्व है कि आप इन्हें देखें और साकार करें। यह तय कर लें कि आपका सपना बड़ा है। यह एक वास्तविक जिंदगी का उदाहरण दिया जा रहा है। ‘ए’ और ‘बी’ दोनों समुद्र में जाते हैं। एक अपने साथ एक खाली गिलास ले जाता है और दूसरा एक बाल्टी। आप समझ सकते हैं कि किसे क्या चाहिए?

 


विश्वास
विश्वास का संबंध आपके नजरिए से होता है। जैसा कि प्रसिद्ध अमरीकी उद्योगपति हैनरी फोर्ड ने कहा था कि यदि आप विश्वास कर सकते हैं तो भी आप सही हैं या विश्वास नहीं कर सकते हैं तो भी आप सही हैं। यह सब आप पर निर्भर करता है। इसे हम इस कहानी से समझ सकते हैं। एक लड़के ने एक संत को पराजित करने का मन बनाया। इसके लिए उसने एक बेवकूफी-भरी योजना बनाई। उसने सोचा कि मैं संत के पास हाथों में एक पक्षी को लेकर जाऊंगा। चूंकि संत सभी कुछ जानते हैं, इसलिए मैं उनसे पूछूंगा कि जो चिडिया मेरे हाथ में है वह जिंदा है या नहीं। यदि वे जवाब देते हैं कि जिंदा है, तो मैं उसकी गर्दन दबा दूंगा। यदि वे कहते हैं कि वह मर गई है, तो वे गलत साबित हो जाएंगे। उसने अपनी योजना के अनुसार वैसा ही किया। लेकिन, संत उसकी चतुराई को समझ गए। उन्होंने कहा कि इस पक्षी की दशा वैसी ही होगी जैसा तुम चाहोगे। ऐसा ही हमारी जिंदगी में होता है। जैसा हम चाहते हैं, वैसा ही हमारा नजरिया बनता है और हम भी वैसे ही बनते हैं।

 


अनिर्णय
पसंद का संबंध हमारे कर्म से है। आप कभी भी जीत नहीं सकते, यदि आप कोई शुरूआत न करें। एक बहुत ही आलसी इंसान की कहानी है। वह बिना मेहनत किए हुए धनवान बनना चाहता था। उसने भगवान से निरंतर प्रार्थना की कि कृपया मेरी लाटरी जीतने में मदद करो। भगवान अवतरित हुए और उसकी इच्छा को पूरा करने का आश्वासन दिया। वह धैर्यपूर्वक इंतजार करने लगा लेकिन उसकी इच्छा पूरी नहीं हुई। उसने भगवान से फिर प्रार्थना की और कहा कि भगवान! आपने अपना वायदा पूरा नहीं किया। भगवान ने कहा, ‘‘वत्स! तुम्हें कम-से-कम लाटरी के टिकट खरीदने की मेहनत तो करनी ही होगी। तभी तो मैं तुम्हारे बंपर प्राइज जीतने की व्यवस्था कर पाऊंगा।’’
गीता में श्री कृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि अच्छा या बुरा निर्णय सभी सही होते हैं, किंतु अनिर्णय आत्मघाती होगा। इतिहास गवाह है कि अनिर्णय और बिना कर्म के कई महान सपने हमेशा के लिए खत्म हो गए। सफल होने के लिए जरूरी है कि आप सबसे पहले आरामदायक स्थिति से बाहर आ जाएं। घर, रिश्ते, नौकरी और आदतें सभी कुछ आरामदायक होती हैं, किंतु अंत में ये सभी आपको मानो आगे बढ़ने से रोकते हैं। 

(सफलता के अचूक मंत्र’ से साभार)
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You