यात्रा- मां शाकंभरी के तीन शक्तिपीठों की

  • यात्रा- मां शाकंभरी के तीन शक्तिपीठों की
You Are HereDharmik Sthal
Monday, December 29, 2014-8:53 AM

नौ देवियों में से एक हैं मां शाकंभरी देवी। मां शाकंभरी धन-धान्य का आशीर्वाद देती हैं। इनकी अराधना से घर हमेशा शाक यानी अन्न के भंडार से भरा रहता है। शाकंभरी देवी की अराधना करने वालों के घर शाक आर्थात भोजन से भरा रहता है। देश भर में मां शाकंभरी के तीन शक्तिपीठ हैं। पहला प्रमुख राजस्थान से सीकर जिले में उदयपुर वाटी के पास सकराय मां के नाम से प्रसिद्ध है। दूसरा स्थान राजस्थान में ही सांभर जिले के समीप शाकंभर के नाम से स्थित है और तीसरा स्थान उत्तरप्रदेश के मेरठ के पास सहारनपुर में 40 किलोमीटर की दूर पर स्थित है। शाकंभरी देवी का प्रमुख स्थल अरावली पर्वत के मध्य सीकर जिले में सकराय मां के नाम से विश्वविख्यात है। इस तीर्थ का उल्लेख महाभारत, वनपर्व के तीर्थयात्रा प्रसंग में इस श्लोक के मध्यान से किया गया है।

श्लोक: "ततो गच्छेत् राजेन्द्र देव्याः स्थानं सुदुर्लभम, शाकम्भरीति विख्याता त्रिषु लोकेषु विश्रुता।"

उपाय: धन धान्य कि पूर्ती हेतु देवी शाकंभरी कि पंचो-उपचार पूजन करने के बाद देवी के चित्र पर लौकी का भोग लगाएं।

मंत्र: ततोऽहमखिलंलोकमात्मदेहसमुद्भवै:। भरिष्यामिसुरा: शाकैरावृष्टे:प्राणाधारकै:। शाकंभरीरीतिविख्यातिंतदा यास्यामहंभुवि।।

आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You