ब्रह्माजी स्वयं करते हैं तीर्थ की रक्षा, यहां श्राद करने से पितरों को मिलता है मोक्ष

You Are HereDharmik Sthal
Sunday, September 18, 2016-12:44 PM

भारत में बहुत सारे तीर्थस्थान हैं, जहां श्राद्ध, पिंडदान व तर्पण किया जाता है। उन्हीं में से एक तीर्थ ऐसा भी है जिसकी रक्षा स्वयं ब्रह्माजी करते हैं। वह तीर्थ है राजस्थान का लोहागर। इस स्थान को पिंडदान अौर अस्थियों के विसर्जन के लिए जाना जाता है।


कहा जाता है कि यहां जिस व्यक्ति का श्राद्ध किया जाता है उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। यहां की विशेषता है कि यहां विसर्जित अस्थियां पानी में ही गल जाती हैं। यहां चैत्र में सोमवती अमावस्या और भाद्रपद अमावस्या को मेला लगता है। 


यहां का मुख्य तीर्थ पर्वत से निकलने वाली सात धाराएं हैं। कहा जाता है कि पर्वत के नीचे ब्रह्मह्लद है अौर ये धाराएं उसी में से निकली हैं। यहां के प्रधान देवता सूर्यदेव हैं। यहां स्थित सूर्यकुंड के आस-पास 45 मंदिर और हैं। लोहागर की परिक्रमा भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की नवमी से पूर्णिमा तक होती है।


इस तीर्थ से संबंधित एक कथा के अनुसार ब्रह्मह्लद देवताओं का प्रिय तीर्थ था।कलयुग में पापी इस कुंड में स्नान करके इसे अपवित्र न कर दें, इसके लिए सभी देवताअों ने ब्रह्मा जी से प्रार्थना की कि वे इसकी रक्षा करें। ब्रह्मा जी ने देवताअों की प्रार्थना सुनकर हिमालय के पुत्र केतु को कुंड की रक्षा हेतु यहां भेजा। केतु ने अपनी आराधना से यहां के अधिदेवता को प्रसन्न करके तीर्थ को आच्छादित कर लिया। जिससे ब्रह्मह्लद तीर्थ पर्वत के नीचे लुप्त हो गया। उसकी सात धाराएं पर्वत के नीचे से बहने लगी। वे सातों धाराएं आज भी वहां हैं।


पांडवों के मन में महाभारत के युद्ध के पश्चात महासंहार का दुख था। वे दुख से मुक्ति पाना अौर पवित्र होना चाहते थे। भगवान श्रीकृष्ण ने उन्हें बताया कि जिस तीर्थ पर भीम की अष्टधातु की गदा गलकर पानी हो जाए समझ लेना कि वहां सब लोग शुद्ध हो गए हैं। तीर्थों की यात्रा करते हुए पांडव यहां पहुंचे तो उनके सभी शस्त्र पानी में गल गए। तभी से इस स्थान का नाम लोहागर पड़ गया। 


कैसे पहुंचे- राजस्थान में सवाई माधोपुर से लुहारू तक पश्चिम रेलवे की एक लाइन पर सीकर या नवलगढ़ स्टेशन पड़ता है। यहीं पर लोहागर का नजदीकी स्टेशन है। यहां से तोर्थ तक पहुंचने के लिए बहुत सारे साधन उपलब्ध हो जाते हैं। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You