वन रैंक वन पैंशन के लिए मोदी सरकार वचनबद्ध : धूमल

  • वन रैंक वन पैंशन के लिए मोदी सरकार वचनबद्ध : धूमल
You Are HereHimachal Pradesh
Monday, June 01, 2015-9:25 AM

हमीरपुर: पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने रविवार को हमीरपुर के ताल, पांडवीं, उखली एवं टिक्कर डिडवीं में महासंपर्क अभियान के तहत कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार पूर्व सैनिकों के हितों के प्रति पूरी तरह से सजग है और वन रैंक वन पैंशन के लिए पूरी तरह से वचनबद्ध है। भाजपा शुरू से ही पूर्व सैनिकों के हितों की लड़ाई लड़ती रही है और स्वयं उन्होंने सांसद रहते हुए लोकसभा में सबसे पहले वन रैंक वन पैंशन मुद्दे को जोर-शोर से उठाया था। उस समय देश भर के पूर्व सैनिकों ने पत्र भेजकर उनका आभार व्यक्त किया था।

भाजपा ने लोकसभा चुनावों के दौरान अपने घोषणा पत्र में भी पूर्व सैनिकों की मांग को पूरा करने का आश्वासन दिया है। पिछले एक वर्ष से मोदी सरकार लगातार इस मुद्दे पर काम कर रही है और शीघ्र ही इसके पूरा होने की उम्मीद है। उन्होंने केंद्र सरकार से आग्रह किया कि वन रैंक वन पैंशन के मुद्दे को प्राथमिकता के आधार पर हल किया जाए ताकि हिमाचल प्रदेश के लाखों पूर्व सैनिकों को इसका लाभ मिल सके।

प्रो. धूमल ने हैरानी जताते हुए कहा कि यूपीए सरकार ने पिछले 10 वर्षों में इस मुद्दे को ठंडे बस्ते में डालकर रखा अन्यथा आज तक यह कब का पूरा हो चुका होता। अपनी असफलताओं पर पर्दा डालने के लिए कांग्रेस उतावलापन दिखा रही है। कांग्रेस ने अपने शासनकाल में न ही किसानों की चिंता की और न ही सैनिकों और पूर्व सैनिकों की। अब सत्ता से बाहर होकर कांग्रेस आधारहीन विरोध कर रही है। कांग्रेस द्वारा भूमि अधिग्रहण बिल का विरोध पूर्णतया अनुचित है। यह बिल पूरी तरह से किसानों के हित में है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने एक वर्ष के भीतर ही काले धन को वापस लाने के लिए गंभीरता दिखाई है। इसी का परिणाम है कि विदेशों में धन रखने वाले उद्योगपतियों के नाम सार्वजनिक होने लगे हैं।

धूमल ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस सरकार अंतर्विरोध से जूझ रही है। आए दिन सरकार के मंत्री सार्वजनिक मंचों से एक-दूसरे का विरोध करते नजर आ रहे हैं। ऐसी स्थिति में प्रदेश का विकास पूरी तरह से ठप्प हो चुका है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने करोड़ों रुपए प्रदेश सरकार को विकास के लिए जारी किए हैं लेकिन सरकार विकास कार्यों पर खर्च करने की बजाय अध्यक्षों और उपाध्यक्षों की फौज खड़ी करके प्रदेश के खजाने को अपने चहेतों पर खर्च कर रही है। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि महासंपर्क अभियान के द्वितीय चरण में घर-घर जाकर केंद्र सरकार की नीतियों और कार्यक्रमों को जनता तक पहुंचाएं और प्रदेश कांग्रेस सरकार की जनविरोधी नीतियों का भी डटकर विरोध करें।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You