रंगभेद से तंग आया अफ्रीकी देश गाम्बिया, किया ये ऐलान

You Are HereInternational News
Wednesday, October 26, 2016-4:59 PM

गाम्बिया : गाम्बिया ने अंतर्ऱाष्ट्रीय अपराध अदालत (ICC) को छोडऩे की घोषणा की है और आरोप लगाया है कि हेग स्थित यह न्यायाधिकरण ‘लोगों की त्वचा के रंग के आधार पर (खासकर अफ्रीकी लोगों के साथ) उन पर अभियोजन चलाता है और उनका अपमान करता है।’ यह घोषणा मंगलवार (25 अक्बतूर) देर शाम को की गई। इससे पहले इसी महीने दक्षिण अफ्रीका और बुरुण्डी भी इस संस्थान को छोड़कर जा चुके हैं। इस न्यायाधिकरण की स्थापना दुनिया के सबसे जघन्य अपराधों पर कार्रवाई के लिए की गई थी। 

सूचना मंत्री शेरिफ बोजांग ने सरकारी टैलीविजन पर यह घोषणा की है और इसमें कहा है कि ‘अफ्रीकी लोगों खासकर उनके नेताओं पर अभियोजन चलाने के लिए’ इस अदालत का इस्तेमाल किया जा रहा है जबकि दूसरी ओर पश्चिमी देशों में किए जा रहे अपराधों की अनदेखी की जा रही है।’ 

उन्होंने ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर का उदाहरण दिया। ICC ने इराक युद्ध के बावजूद उन पर अभियोग नहीं चलाया था।बोजांग ने कहा, ‘पश्चिम के कम से कम 30 देश ऐसे हैं जिन्होंने स्वतंत्र संप्रभु देशों और उनके नागरिकों के खिलाफ जघन्य युद्ध अपराधों को अंजाम दिया है और यह सब ICC की स्थापना के बाद की बात है लेकिन पश्चिम के किसी भी युद्ध अपराधी पर अभियोग नहीं चलाया गया।’ 

उल्लेखनीय है कि ICC की स्थापना 2002 में हुई थी। इस न्यायाधिकरण पर अफ्रीका के साथ भेदभाव करने के आरोप लगते रहते हैं। इसे अमरीका समेत कई देशों से सहयोग नहीं मिल रहा है। अमरीका ने अदालत की संधि पर हस्ताक्षर तो किए थे लेकिन कभी भी इसे स्वीकर नहीं किया। गाम्बिया चाहता था कि अदालत यूरोपीय संघ को सजा दे क्योंकि उसके तटों पर पहुंचने की कोशिश में हजारों अफ्रीकी प्रवासियों ने जान गंवा दी थी। लेकिन गाम्बिया का यह प्रयास असफल ही रहा है।
 


वीडियो देखने के लिए क्लिक करें

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You