पाकिस्तान में पीएमएलएन के अधिकतर सीटें जीतने का अनुमान

  • पाकिस्तान में पीएमएलएन के अधिकतर सीटें जीतने का अनुमान
You Are HereInternational
Thursday, August 22, 2013-11:03 PM

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में नेशनल और प्रान्तीय असेम्बलियों की 41 सीटों पर आज देश का अब तक का सबसे बड़ा उपचुनाव हुआ जिसमें सत्ताधारी पीएमएलएन की स्थिति मजबूत रहने की संभावना है। इस चुनाव में कई महिलाएं वोट नहीं डाल पाईं।

स्थानीय समयानुसार मतदान सुबह आठ बजे शुरू हुआ,जो शाम पांच बजे तक शांतिपूर्ण ढंग से चला। नेशनल असेंबली की 15 और प्रांतीय असेम्बलियों की 26 सीटों के लिए कुल 522 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।
 
मतदान पूरा होने के तुरंत बाद मतगणना शुरू हुई और रात तक शुरूआती नतीजे आने की संभावना है। कई सीटों पर सत्तारूढ़ पीएमएल एन और इमरान खान की तहरीक ए इंसाफ के बीच कांटे की टक्कर होने की संभावना है।

राजनीतिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि सत्तारूढ़ पार्टी की इस चुनाव में मजबूत स्थिति रह सकती है। इन सीटों में से अधिकतर सीटें एक से अधिक सीटों पर चुनाव लडऩे वालों द्वारा त्यागपत्र देने के चलते खाली हुई हंै जबकि कुछ अदालतों द्वारा उम्मीदवारों को अयोग्य ठहराये जाने के चलते रिक्त हुई हैं।
 
वहीं उम्मीदवारों के निधन के चलते कुछ सीटों पर गत 11 मई को चुनाव नहीं कराये गए थे। चुनाव आयोग ने मतदान के लिए 7606 मतदात केंंद्र स्थापित किये हैं। इन मतदान केंद्रों में से 1800 मतदान केंद्र संवेदनशील और 1500 केंद्रों की पहचान अत्यधिक संवेदनशील केंद्रों के रूप में की गई है। संवेदनशील मतदान केंद्रों पर सशस्त्र बलों की तैनाती की गई है। इन क्षेत्रों में करीब 85 लाख पंजीकृत मतदाता हैं।

 हालांकि, खबरों में कहा गया कि पंजाब और खैबर पख्तूनख्वा प्रांतों में कई सीटों पर महिलाओं को उनके मताधिकार से रोका गया। जिन क्षेत्रों में महिलाओं को रोका गया उसमें पंजाब के मियांवाली, लक्की मारवात और नौशेरा शामिल हैं।

फालिया में महिलाओं ने मतदान नहीं किया क्योंकि पंचायत ने उनके मताधिकार के खिलाफ आदेश दिया था। चुनाव आयोग को शिकायत मिली कि महिलाओं को मतदान से रोका जा रहा है, जिसके बाद आयोग ने लक्की मारवात में उम्मीदवारों से संपर्क किया।

पेशावर हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने इस मामले में संज्ञान लिया, जिसके बाद महिलाओं को नौशेरा में मतदान की अनुमति मिली। चुनाव आयोग ने डेरा इस्माइल खान सीट के लिए चुनाव सुरक्षा कारणों से स्थगित कर दिया था।

प्रतिबंधित तहरीके तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने खैबर पख्तुख्वा प्रांत के हंगू में महिलाओं को चेतावनी दी है कि वे आज के उपचुनाव में हिस्सा नहीं लें अन्यथा उनका अपहरण करके उनकी हत्या कर दी जाएगी।

गत 11 मई को हुए आम चुनाव में हार का सामना करने वाली पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी को अधिकतर लोग पीएमएल-एन या इमरान की पार्टी के लिए खतरे के रूप में नहीं देखते। सिंध में पीएमएल-एन ने प्रांतीय असेंबली के लिए अपना कोई भी उम्मीदवार खड़ा नहीं किया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You