सीरिया को राहत, ओबामा ने हमला टाला

  • सीरिया को राहत, ओबामा ने हमला टाला
You Are HereInternational
Wednesday, September 11, 2013-8:31 PM

वाशिंगटन: सीरिया द्वारा अपने रासायनिक हथियार अंतरराष्ट्रीय निगरानी में रखने के रूस के प्रस्ताव पर सहमत होने के एक दिन बाद अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने आज कहा कि अगर कूटनीति से कोई हल नहीं निकलता है तो वह सीरिया पर हमले के लिए अपनी सेना को हाई अलर्ट पर रखेंगे।

अमेरिकी कांग्रेस में सीरिया में सैन्य हस्तक्षेप को लेकर विरोध का सामना कर रहे ओबामा ने सीरिया के रासायनिक हथियारों को अंतरराष्ट्रीय निगरानी में रखने के रूस के प्रस्ताव को ‘उत्साहजनक’ संकेत बताया। उन्होंने कहा कि इस पर चर्चा होने तक वह फिलहाल सैन्य कार्रवाई को रोककर रखेंगे।

व्हाइट हाउस से राष्ट्र को संबोधित करते हुए ओबामा ने कहा कि वह इस विषय पर अपने रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन से भी चर्चा करेंगे जो संयुक्त राष्ट्र की मंजूरी के बगैर सीरिया के खिलाफ सैन्य कार्रवाई का विरोध कर रहे हैं। ओबामा ने कहा कि यह कहना बहुत जल्दबाजी है कि यह प्रस्ताव सफल रहेगा या नहीं और किसी भी समझौते में यह सत्यापित होना चाहिए कि असद शासन अपनी प्रतिबद्धता का पालन करे।

ओबामा ने कहा कि लेकिन इस पहल के जरिये बल का प्रयोग किये बिना रासायनिक हथियारों के खतरे को समाप्त किया जा सकता है। ओबामा ने सीरिया मामले का राजनयिक स्तर पर हल निकाले जाने के लिए सीनेट को उसके खिलाफ बल प्रयोग पर मत विभाजन स्थगित करने को कहा है। उन्होंने इसके लिए कोई समयसीमा तो तय नहीं की है, लेकिन कहा कि सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद के साथ किसी भी समझौते के लिए यह सुनिश्चित करना बेहद आवश्यक है कि असद शासन अपनी कही बातों पर अमल करे।

ओबामा का यह भाषण सीरिया पर हमले की उनकी योजना के लिए संसद के अलावा इस मामले को लेकर उलझन में पड़े अपने देशवासियों का समर्थन पाने की अंतिम कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। अमेरिका को ‘वैश्विक सुरक्षा का प्रहरी’ करार देते हुए ओबामा ने इस मामले का राजनयिक हल तलाशने के साथ ही सीमित सैन्य हमले के लिए तैयार रहने के समर्थन में नैतिक, राजनीतिक और रणनीतिक तर्क दिए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You