प्रधानमंत्री को कथित तौर पर ‘देहाती महिला’ कहे जाने पर उठा बड़ा विवाद

  • प्रधानमंत्री को कथित तौर पर ‘देहाती महिला’ कहे जाने पर उठा बड़ा विवाद
You Are HereNational
Monday, September 30, 2013-10:51 AM

नई दिल्ली: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ द्वारा अपने भारतीय समकक्ष मनमोहन सिंह को कथित तौर पर ‘देहाती महिला’ संबोधित किये जाने पर एक बड़ा विवाद पैदा हो गया है और नरेंद्र मोदी ने इसे प्रधानमंत्री का ‘सबसे बड़ा अपमान’ बताया।

प्रधानमंत्री पद के भाजपा के उम्मीदवार मोदी ने यहां एक बड़ी रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘आपने (शरीफ) मेेरे प्रधानमंत्री को देहाती महिला कहने का साहस कैसे किया। भारत के प्रधानमंत्री का इससे अधिक अपमान और नहीं हो सकता । हम राजनीति के विषय पर उनसे लड़ सकते हैं लेकिन इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते। सवा सौ करोड़ लोगों का यह देश अपने प्रधानमंत्री का अपमान बर्दाश्त नहीं करेगा।’’

यह विवाद उस समय उत्पन्न हो गया जब जाने माने पाकिस्तानी पत्रकार हामिद मीर ने जियो टीवी पर कहा कि शरीफ ने नाश्ते पर उनसे और एनडीटीवी की बरखा दत्त से मुलाकात के दौरान उनका (मनमोहन सिंह का) उल्लेख करते हुए देहाती महिला शब्द का इस्तेमाल किया जब वह (शरीफ ) भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से पाकिस्तान की शिकायत करने पर अप्रसन्नता व्यक्त कर रहे थे।   बहरहाल, बरखा दत्त ने ट्वीटर पर लिखा, ‘‘ यह (मीर की बात) तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है और शरीफ ने ऐसा कुछ नहीं कहा।’’

दत्त ने कहा कि अनौपचारिक बातचीत में कुछ बातें हुईं लेकिन इस अनौपचारिक बातचीत को भी तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया। इसमें प्रधानमंत्री के बारे में कोई अपमानजनक बात नहीं कही गई। बरखा ने कहा कि जो बातें ‘ऑफ रिकार्ड’ कही गई उसमें भी प्रधानमंत्री के बारे में कोई अपमानजनक शब्द शामिल नहीं हैं।

उन्होंने ट्विटर पर लिखा है शरीफ ने दो ग्रामीणों के विवाद के बारे में एक व्यंजनापूर्ण कहानी सुनाई। दो ग्रामीणों में एक महिला थी। झगड़े कैसे खत्म होते हैं, इस बात के साथ यह कहानी खत्म हुई। शरीफ का उद्देश्य यह बताना था कि विवाद किसी तीसरे पक्ष को शामिल किए बगैर कैसे खत्म किया जा सकता है।

मीर ने कार्यक्रम में शरीफ के हवाले से कहा, ‘‘ऐसा लगता है क्योंकि मनमोहन सिंह एक देहाती औरत की तरह मेरे खिलाफ शिकायत करने के लिए ओबामा के पास गए।’’   इन टिप्पणियों को मोदी ने मुद्दा बनाते हुए कहा, ‘‘जब नवाज शरीफ हमारे प्रधानमंत्री का अपमान कर रहे थे उस वक्त पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के सामने बैठे पत्रकारों को भी मेरी देश की जनता को जवाब देना चाहिए।’’

मोदी ने कहा, ‘‘मैं उन पत्रकारों से पूछना चाहता हूं, मैं नहीं जानता कि वे कौन हैं लेकिन मेरे देश के पत्रकार उस वक्त मिठाइयां खा रहे थे जब वह (शरीफ)  हमारे प्रधानमंत्री को देहाती औरत कह कर उनका अपमान कर रहे थे। मुझे और देश को उन भारतीय पत्रकारों से यह उम्मीद थी कि वे मिठाई छोड़ देते और वहां से चले जाते।’’

मीर ने बाद में ट्विट किया कि बरखा अपना कैमरा लाने के लिए वहां से चली गई और इस तरह वह बातचीत के दौरान पूरे समय मौजूद नहीं थी ‘‘यह कोई बड़ा मुद्दा नहीं है सब कुछ अच्छा होने की उम्मीद की जाए।’’ पाकिस्तानी पत्रकार ने यह भी स्पष्ट किया कि उन्होंने सिंह के खिलाफ कुछ भी अपमानजनक नहीं कहा।

मीर ने कहा कि उन्होंने सिंह के बारे में उनसे एक चुटकुला साझा किया हालांकि, इस बारे में विस्तार से कुछ नहीं बताया।  दोनों पत्रकारों ने संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर सिंह और शरीफ की बैठक से पहले इस कथित टिप्पणी पर उठे विवाद को खत्म करने की कोशिश की।  वहीं, पाकिस्तानी पत्रकार एवं आज टीवी के निदेशक अबसार आलम भी नाश्ते की बैठक के दौरान मौजूद थे। उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कभी देहाती औरत शब्द का इस्तेमाल नहीं किया, यह शब्द कभी इस्तेमाल नहीं किया गया।’’  उन्होंने कहा कि शरीफ ने अपनी नाराजगी एक कहानी का जिक्र करते हुए जताई।

आलम ने शरीफ के हवाले से बताया, ‘‘कहानी कुछ इस तरह है...एक पार्टी के बाद सभी लोग एक हॉल में सो गए। उनमें से एक अगली सुबह जगता है और दुआ करना शुरू कर देता है। अपनी दुआ में कहता है अल्लाह...देखिए मैं ऐसे वक्त में आपसे दुआ मांग रहा हूं जब ये सभी सो रहे हैं। कुछ अन्य लोग जग जाते हैं और उसकी बातें सुन लेते हैं। वह उनसे कहता है कि आपने हमारे खिलाफ शिकायत करने की बजाए अपना पूरा ध्यान दुआ में क्यों नहीं लगाया।’’

आलम ने बताया कि शरीफ ने कहा कि भारत बड़ा भाई है और सिंह एक आदरणीय प्रधानमंत्री हैं उन्हें अपने देश के बारे में ओबामा से बात करनी चाहिए और पाकिस्तान की शिकायत नहीं करनी चाहिए।  शरीफ ने बाद में भारतीय टीवी चैनलों से कहा कि सिंह एक अच्छे व्यक्ति हैं और भारतीय नेता के साथ अपनी प्रथम बैठक में वह पाकिस्तान का दौरा करने के लिए उन्हें फिर से न्योता देंगे।

जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर हुई हालिया घटनाओं के बारे में पूछे जाने पर शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान ने प्रस्ताव दिया कि दोनों देशों के सैन्य और विदेश विभाग के लोगों को संयुक्त रूप से इस मुद्दे की जांच करनी चाहिए या इस मुद्दे को स्वतंत्र जांच के लिए संयुक्त राष्ट्र को सौंपा जा सकता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You