विवाह की कसमें खा कर दूल्हा गया जेल

  • विवाह की कसमें खा कर दूल्हा गया जेल
You Are HereInternational
Wednesday, October 02, 2013-2:54 PM

लास एंजलस: अमरीका में एक व्यक्ति को जज ने पहले 53 साल की सज़ा सुनाई और फिर उसी जज ने जेल में जाने से पहले उस दोषी का विवाह उसकी मंगेतर के साथ करवा दिया। जज अक्सर लोगों का विवाह करवाते हैं और हिरासत दौरान भी विवाह करवाने के कई मामले सामने आते रहते हैं परन्तु यह मामला अपने आप में विलक्षण है, जब सज़ा सुनाने के बाद उसी अदालत में किसी दोषी का विवाह करवा दिया गया और फिर जेल भेज दिया गया।

जि़क्रयोग्य है कि 36 साला डैनी डैसबरोय को 17 सितम्बर को 53 सालों की सज़ा सुनाई गई थी। डैसबरोय को 2003 में हुई केविन स्टोंस नाम के व्यक्ति कत्ल के दोष में यह सज़ा सुनाई गई। बताया जाता है कि किसी गवाह के अदालत में पेश न होने के कारण इस कत्ल की गुत्थी करीब 10 सालों तक उलझी रही। अब दो महीने मुकदमा चलने के बाद डैसबरोय को अव्वल दर्जा कत्ल का दोषी करार दिया गया और उसे 53 सालों की सज़ा सुनाई गई।

मामले की सुनवाई दौरान ही डैसबरोय ने अपनी होने वाली पत्नी डैस्टिनी का मुद्दा उठाया। डैस्टिनी हर दिन मुकदमे की सुनवाई दौरान मौजूद रही थी। अदालत में अपना मुद्दा उठाए जाने के बाद डैस्टिनी ने मामले की सुनवाई कर रही महिला जज कुकसन के चेंबर में गई और पूछा कि वह सज़ा सुनाने के बाद उन दोनों का विवाह करवा देगी।

इस पर जज कुकसन ने दो दिनों में विवाह के लिए अंगूठी, नोटरी और दस्तावेज़ के सभी प्रबंध पूरे कर लिए और सज़ा का फ़ैसला सुनाने के बाद कुकसन अपने बैंच से उत्तरी और उसने एक बायबल ले कर डैसबरोय और डैस्टिनी का विवाह करवा दिया। पहली बार अदालत में विवाह का केक भी काटा गया और उम्रभर का रिश्ता निभाने की कसम खा कर पहली बार एक दूल्हा उम्रकैद की सज़ा भुगतने के लिए जेल चला गया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You