अब कैडबरी की पहचान नहीं रहा बैंगनी रंग का ‘रैपर’

  • अब कैडबरी की पहचान नहीं रहा  बैंगनी रंग का ‘रैपर’
You Are HereInternational
Sunday, October 06, 2013-9:49 AM

लंदन: अमेरिकी कंपनी ‘क्राफ्ट’ के स्वामित्व वाली लंदन की विश्वविख्यात चाकलेट निर्माता कंपनी ‘कैडबरी’ कंपनी ‘नेस्ले’ के बीच पांच वर्षों तक चली कानूनी लडाई के बाद आखिरकार नेस्ले ने अपने उत्पादों में बैंगनी रंग इस्तेमाल करने का अधिकार प्राप्त कर लिया है। लंदन की एक अदालत में तीन न्यायधीशों की एक खंडपीठ ने शुक्रवार को ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए कहा कि कैडबरी को अपने चाकलेट उत्पादों में वैंगनी रंग के इस्तेमाल का एकाधिकार नहीं दिया जा सकता क्योंकि उसने इसके लिये कोई ट्रेडमार्क आवेदन नहीं किया है।

इस फैसले के साथ ही इस उद्योग में शामिल तमाम कंपनियां अब चाहे तो अपने उत्पाद तथा उनकी पैकिंग में इस रंग का इस्तेमाल कर सकती है। कैडबरी तथा नेस्ले के बीच पूर्व में हुई दो कानूनी मुकदमों में कैडबरी ने अपनी धाक जमाई लेकिन इस लडाई में नेस्ले ने बाजी मार ली है। इस मामले से संबंधित अदालत के न्यायाधीश सर जान मुमेरी ने अपने फैसले में कहा कि कैडबरी को बैंगनी रंग के इस्तेमाल का एकाधिकार देना कानूनी रूप से सही नहीं होगा।

उल्लेखनीय है कि लंदन के वॄमघम की कैडबरी कंपनी को वर्ष 2010 में एक अमेंरिकी कंपनी क्राफ्ट ने साढे ग्यारह अरब डालर में खरीदा था तथा अब ‘मोंडालेज’ के नाम से कैडबरी को संचालित करती है। चाकलेट उद्योग में अव्वल दर्जें की कंपनी कैडबरी ने ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया के पसंदीदा रंग बैंगनी को 100 वर्ष पहले अपनाया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You