क्या लादेन को पनाह देने वाले के हाथ आ सकती हैं अफगानिस्‍तान की सत्ता?

  • क्या लादेन को पनाह देने वाले के हाथ आ सकती हैं अफगानिस्‍तान की सत्ता?
You Are HereInternational
Saturday, October 05, 2013-3:25 PM

काबुल: अफगानिस्तान में अगले साल 5 अप्रैल को अफगानिस्तान में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होने हैं। इसके लिए अब्दुल रसूल सयाफ ने भी अपना नामांकन भरा है। परंतु रसूल की आतंकी संगठन तालिबान से काफी नजदीकियां रही हैं। तो सोचने वाली बात यह हैं कि अब क्या अफगानिस्‍तान की सत्ता एक ऐसे शख्स के हाथों में आ सकती हैं, जोकि पहले से ही आतंकियों को पनाह देता रहा हो।

जानकारी के मुताबिक, 1996 में रसूल ने लादेन को अफगानिस्तान तक पहुंचाने में मदद की थी। लादेन ने रसूल की मदद से ही अफगानिस्‍तान में अलकायदा को खड़ा किया। लादेन 2001 तक लादेन यहां रहा और इसके बाद वह पाकिस्तान चला गया था। रसूल 1980-90 के में अफगानिस्तान और पाकिस्तान में पैरामिलिट्री ट्रेनिंग कैंप चलाता था, जहां वह जिहादियों को लडऩे की ट्रेनिंग देते थे। अफगानिस्‍तान में अलकायदा के होने का कारण भी रसूल को ही माना जाता हैं।

परंतु अब चुनाव के लिए नामाकंन भरने वाले रसूल देश में आतंकियों से लडऩे और देश को आतंकवाद से निजात दिलाने की बात कर रहे हैं। उनका कहना हैं कि देश में 2002 से ही नाटो की सेनाएं तैनात हैं और देश 11 साल से आंतकियों से लड़ रहा है। परतु अब तक इस समस्या का कोई हल नहीं निकाला जा सका हैं। अब यह तो समय ही बताएगा कि अफगानिस्‍तान की बागडोर किसके हाथ आती हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You