नोबेल शांति पुरस्कार समिति ने सही फैसला लिया: मलाला

  • नोबेल शांति पुरस्कार समिति ने सही फैसला लिया: मलाला
You Are HereInternational
Saturday, October 12, 2013-10:16 AM

वाशिंगटन: इस वर्ष का नोबेल शांति पुरस्कार नहीं मिलने से थोड़ी निराश किशोर उम्र की पाकिस्तानी कार्यकर्ता मलाला युसूफजई ने कहा कि उसे अभी बहुत काम करने की जरूरत है। पिछले वर्ष तालिबान के हमले की शिकार हुई मलाला ने इस साल का नोबेल शांति पुरस्कार रासायनिक हथियार निषेध संगठन (ओपीसीडब्ल्यू) को दिए जाने की घोषणा के बाद एक समाचार चैनल से कहा, ‘‘उन्होंने (नोबेल शांति पुरस्कार समिति) सही फैसला लिया क्योंकि मुझे अभी बहुत काम करने की जरूरत है।’’

उसने कहा, ‘‘अगर हम नोबेल शांति पुरस्कार को लेकर लिए गए फैसले को भूल जाएं तो मुझे लगता है कि मुझे लोगों ने अपना पुरस्कार दे दिया है। उन्होंने मुझे नामांकित किया, और यह मेरे लिए सबसे बड़ा पुरस्कार है।’’ मलाला ने कहा, ‘‘और मेरे मन में एक पुरस्कार है- जिसके लिए मैं संघर्ष करूंगी, जिसके लिए मैं अभियान चलाऊंगी। यह पुरस्कार हर बच्चे को स्कूल जाते देखना है। मैं अपनी जिंदगी इसके लिए लगा दूंगी, क्योंकि मैं अपने जीवन में यही पुरस्कार पाना चाहती हूं।’’

मलाला ने कहा कि वह अपने देश वापस लौटकर आतंकवाद से लडऩा चाहती है। उसने कहा, ‘‘पाकिस्तान वह देश है जहां मेरा जन्म हुआ, और मैं पाकिस्तान की एक देशभक्त नागरिक हूं तथा अपने देश से प्यार करती हूं। मैं अपने देश के प्रति सच्ची होना चाहती हूं। मुझे पूरी उम्मीद है कि मैं वापस पाकिस्तान जाऊंगी, क्योंकि मैं वहां आतंकवाद के खिलाफ लडऩा चाहती हूं।’’

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You