कर्ज सीमा मुद्दे के शीघ्र समाधान का अमेरिका से आग्रह

  • कर्ज सीमा मुद्दे के शीघ्र समाधान का अमेरिका से आग्रह
You Are HereInternational
Saturday, October 12, 2013-5:38 PM

वाशिंगटन: जी-20 देशों के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नरों ने अमेरिका से आग्रह किया है कि वह कर्ज सीमा संबंधी मुद्दे का  शीघ्र समाधान निकाले। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार रूस के वित्त मंत्री एंटन सिलुआनोव ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जी-20 के अधिकारियों ने अमेरिकी कर्ज सीमा और बजट के मुद्दे पर चर्चा की।

इस कठिन स्थिति पर अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) और विश्व बैंक की वार्षिक बैठक से अलग हुई दो दिवसीय बैठकों में चर्चा हुई। जी-20 के अधिकारियों की बैठक समाप्त होने के बाद जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि अल्पकालिक वित्तीय अनिश्चितता से निपटने के लिए अमेरिका को तत्काल कार्रवाई करने की जरूरत है। सिलुआनोव ने कहा कि अमेरिकी वित्त मंत्री जैकब लेव ने अमेरिकी बजट पर चर्चा के लिए जी-20 की बैठक को समय से पहले ही छोड़ दिया।

उन्होंने उम्मीद जताई कि अमेरिकी कांग्रेस इस मामले का हल कुछ ही दिनों में निकाल लेगी। लेव ने कांग्रेस को बताया कि संघीय सरकार की कर्ज सीमा 17 अक्तूबर तक 167 खरब डॉलर हो जाएगी और यदि इसमें वृद्धि का प्रयास विफल रहा तो यह एक विपत्तिपूर्ण दिवालिएपन की स्थिति होगी। इस बीच, आईएमएफ की प्रमुख क्रिस्टीन लागार्दे ने गुरुवार को कहा कि यदि अमेरिकी कांग्रेस कर्ज सीमा बढ़ाने में विफल रही तो यह अमेरिकी और वैश्विक दोनों अर्थव्यवस्थाओं को गंभीर नुकसान पहुंचाएगा।


 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You