सिंगापुर में तमिल साहित्य का होगा डिजिटलीकरण

  • सिंगापुर में तमिल साहित्य का होगा डिजिटलीकरण
You Are HereInternational
Tuesday, October 15, 2013-10:37 AM

सिंगापुर: सिंगापुर में स्थानीय तमिल लेखकों के साहित्य का डिजिटलीकरण करने के लिए एक राष्ट्रीय परियोजना शुरू की गई है। परियोजना के तहत तमिल साहित्यिक रचनाओं का संकलन 2015 में देश की 50वीं स्वतंत्रता दिवस से पहले करने का लक्ष्य रखा है। 'दि स्ट्रैट्स टाइम्स' ने आज अपनी खबर में कहा कि दि तमिल डिजिटल हेरिटेज प्रोजेक्ट में 1965 से 2015 के बीच के स्थानीय तमिल लेखकों की कृति संकलित होगी।

परियोजना में 1970 और 80 के दशक में लिखे गए और सिंगापुर तमिल रेडियो पर प्रसारित हुए गाने एवं कविताएं शामिल होंगी। इस परियोजना के लिए तमिल डिजिटल हेरिटेज गु्रप, नेशनल लाइब्रेरी बोर्ड (एनएलबी) के साथ मिलकर काम कर रहा है। तमिल हेरिटेज ग्रुप के मुख्य समन्वयक, अरूण माहीझनन ने कहा कि सिंगापुर और विदेश के लोगों के लिए तमिल साहित्य आसानी से डिजिटल रूप में उपलब्ध होगा।

एनएलबी ने कहा कि उसके पास सिंगापुर के तमिलों या स्थायी निवासियों की 500 से अधिक साहित्यिक रचनाएं हैं। इन लेखकों में केटीएम इकबाल, एम इलंगकन्नन और सिंगाई मुकिलान शामिल हैं। माहीझनन ने कहा कि सिंगापुर में कई सदी पहले से तमिल किताबें प्रकाशित हो रही हैं, लेकिन यह सीमित रूप में ही उपलब्ध हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You