गरीबी में जीने के लिए मजबूर है अमेरिका के एक करोड़ 60 लाख बच्चे

  • गरीबी में जीने के लिए मजबूर है अमेरिका के एक करोड़ 60 लाख बच्चे
You Are HereInternational
Tuesday, October 15, 2013-3:48 PM

डरहम: ऐश्वर्य समृद्धि और ताकत के प्रतीक देश अमेरिका में हर चार में से एक बच्चा गरीबी में जीवन बिताने को मजबूर है। अमेरिका के न्यू हैम्पशायर प्रांत स्थित कार्से संस्थान में समाजशास्त्र की प्रोफेसर जेसिका कार्सन तथा शोधकर्ता एंड्रयू शेफर ने वर्ष 2012 में किए गए एक शोध कार्य में पाया है कि इस प्रान्त में गरीबी अपने चरम पर थी।

पूरे देश में एक करोड़ 60 लाख बच्चे गरीबी का अभिशाप झेलने को मजबूर हैं, जिनमें से 60 लाख छह वर्ष की आयु या उससे कम आयु के हैं। रिपोर्ट के अनुसार प्राप्त आंकड़ों से ज्ञात हुआ कि न्यू हैंपशायर में पिछले दस वर्षो में गरीबी सबसे निचले स्तर पर थी। वर्ष 2011 के 12 प्रतिशत के मुकाबले 2012 में रिकार्ड 15.6 प्रतिशत हो गई, जबकि वर्ष 2007 से 2012 तक के आंकडों पर नजर डाली जाए तो यह इजाफा 75 प्रतिशत से अधिक था।

वर्ष 2007 में अमेरिका में आई महामंदी से पहले एक करोड़ 31 लाख बच्चे निर्धन हो गए थे। अमेरिका के कुछ इलाकों में सुशासन की मजबूत नीतियों से बाल गरीबी निचले स्तर पर आई है। यह शोध कार्य वर्ष 2007, 2011 तथा 2012 में अमेरिकी सामुदायिक सर्वेक्षण पर आधारित है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You