रूस की दोस्ती कभी नहीं भूलेगा भारत : प्रधानमंत्री

  • रूस की दोस्ती कभी नहीं भूलेगा भारत : प्रधानमंत्री
You Are HereNational
Monday, October 21, 2013-8:32 PM

मास्को : प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सोमवार को कहा कि जब भारत के संसाधन सीमित थे और उसके कुछ ही दोस्त थे, तब अंतर्राष्ट्रीय चुनौतियों के दौरान रूस उसके साथ खड़ा था, भारत इस बात को कभी नहीं भूलेगा। मास्को स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल रिलेशंस में एक व्याख्यान के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘रूस अंतर्राष्ट्रीय चुनौतियों के उन क्षणों में भारत के साथ खड़ा रहा था, जब हमारे संसाधन सीमित थे और कुछ ही दोस्त थे। हमने जो भी मदद हासिल की उसके आगे यह तथ्य है कि भारत ने इसे कभी नहीं भुलाया।’’

उन्होंने कहा, ‘‘और यही कारण है कि भारत के लोग रूस से दोस्ती का सम्मान करते हैं और इसे कुछ कीमती मानने के समर्थक हैं।’’पिछले छह दशकों में भारत के किसी भी देश के साथ रूस से अधिक करीबी संबंध नहीं रहे और न ही अन्य किसी देश को भारतीय जनता विश्वास, भरोसा और प्रशंसा हासिल हुई। संस्थान ने मनमोहन सिंह को डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत और रूस के संबंध वाणिज्य और संस्कृति के स्थायी सूत्रों से जुड़े हुए हैं जो सदियों पुराने हैं। उन्होंने जिक्र किया कि भारत राष्ट्रीय विकास के हर क्षेत्र भारी उद्योग, विद्युत, रक्षा या अंतरिक्ष में रूसी समर्थन से अत्यधिक लाभान्वित हुआ है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You