शिक्षा में हमसे आगे निकले भारत और चीन: ओबामा

  • शिक्षा में हमसे आगे निकले भारत और चीन: ओबामा
You Are HereInternational
Sunday, October 27, 2013-1:32 PM

न्यूयार्क: अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अमेरिकियों को नई वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए तैयार करने के लिए शिक्षा में सुधार पर जोर दिया है। उन्होंने कहा है कि आज इस दौर में लोग रोजगार के अवसर में एक देश से दूसरे देश कहीं भी रुख कर सकते हैं। ओबामा ने कहा कि भारत और चीन जैसे देशों के लोग गणित और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अमेरिकियों से आगे निकलने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। इसलिए देश में शिक्षा के सुधार की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा, ‘‘पिछली पीढ़ियों में अमेरिका की स्थिति आर्थिक रूप से दूसरों के मुकाबले इतनी मजबूत थी कि हमें अधिक प्रतिस्पर्धा का सामना नहीं करना पड़ता था।’’ ओबामा ने यहां एक प्रौद्योगिकी कालेज के छात्रों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘आज बीजिंग से लेकर बेंगलुरू और मास्कों तक सीधे अरबों लोग यहां प्रतिस्पर्धा में हैं। यह देश शिक्षा और प्रतिस्पर्धा के क्षेत्र में हमसे आगे निकलने के लिए लगातार प्रयासरत हैं।’’

ओबामा ने कहा, श्रमबल को पूरी तरह शिक्षित नहीं किए जाने पर यह पीछे रह जाएगा और जीविका चलाने लायक रोजगार पाना भी मुश्किल हो जाएगा। राष्ट्रपति ने कहा ‘‘हम आज 21वीं सदी की वैश्विक अर्थव्यवस्था में रह रहे हैं। रोजगार के अवसर के लिए कहीं भी रुख कर सकते हैं, क्योंकि कंपनियां अच्छे शिक्षित लोगों की तलाश में रहती हैं चाहे वह कहीं भी हों और उन्हें बेहतर रोजगार और अच्छे वेतन से पुरस्कृत करते हैं।’’ ओबामा ने कहा कि अमेरिका को अपने युवाओं को शिक्षित करना होगा और उन्हें वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए तैयार करना होगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You