अपनी बर्खास्तगी रोकने के लिए मुशर्रफ ने बनाई योजना

  • अपनी बर्खास्तगी रोकने के लिए मुशर्रफ ने बनाई योजना
You Are HereInternational
Sunday, October 27, 2013-11:44 PM

इस्लामाबादः पाकिस्तान के एक पूर्व जनरल ने दावा किया है कि 1999 की सैनिक क्रांति जनरल परवेज मुशर्रफ द्वारा अपनी बर्खास्तगी टालने के लिए पूर्व नियोजित थी। लेफ्टिनेंट जनरल शाहिद अजीज ने अपनी पुस्तक ..यह खामोशी कहां तक .. में दावा किया है कि कुख्यात 111 ब्रिगेड की यूनिटों को 12 अक्टूबर 1999 से पहले लिखित आदेश कार्रवाई के लिए तैयार रहने को कहा गया था।

न्यूज डेली ने कहा है कि सेना प्रचालन के महानिदेशक और मुशर्रफ के नजदीकी जनरल अजीज ने लिखा है कि इस बारे में आर्मी हाउस में कई बैठकें हुई थी। जिनमें यह तय किया गया था कि नवाज शरीफ को सत्ता से हटा दिया जाए। इस योजना में तत्कालीन लेफ्टिनेंट जनरल अजीज खान. तत्कालीन कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल महमूद, तत्कालीन डीजीएमआई मेजर जनरल एहसान उल हक, डीजी आईएसपीआर ब्रिगेडियर रशीद कुरेशी ब्रिगेडियर नदीम ताज और लेखक मेजर जनरल अजीज शामिल थे।

श्रीलंका रवाना होने से पूर्व मुशर्रफ ने ले. जनरल महमूद, ले.जनरल खान और लेखक को जुबानी निर्देश दिया कि तीनों को व्यक्तिगत रूप से यह अधिकार होगा कि वे सरकार की बर्खास्तगी का आदेश थे जारी कर सकते हैं। इसके लिए तीनों जिम्मेदार होंगे। मुशर्रफ ने स्पष्ट किया कि किसी कारण तीनों के बीच मुलाकात या बातचीत नहीं हो सकी तो अकेला एक ही आदमी यह आदेश जारी कर सके।

यह साजिश रचने वाले आशंकित थे कि मुशर्रफ को सेनाध्यक्ष के पद हटा दिया जाएगा और आईएसआई प्रमुख ले. जनरल जियाउद्दीन बट्ट को सेनाध्यक्ष बना दिया जाएगा। अजीज की उर्दू में लिख पुस्तक में दावा किया गया है कि श्रीलंका रोने से पहले आर्मी हाउस में कई बैठके हुई और रणनीतिक को अंतिम रूप दिया गया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You