दक्षिण कोरिया में परमाणु संयंत्र को फर्जी सुरक्षा प्रमाणपत्र जारी

  • दक्षिण कोरिया में परमाणु संयंत्र को फर्जी सुरक्षा प्रमाणपत्र जारी
You Are HereInternational
Tuesday, October 29, 2013-12:36 AM

सोलः दक्षिण कोरिया देश में परमाणु बिजली संयंत्रों को फर्जी सुरक्षा प्रमाणपत्र जारी करने का मामला सामने आने के बाद अपनी परमाणु नीतियों की फिर से समीक्षा करने पर मजबूर हो गया है। दक्षिण कोरिया की कुल ऊर्जा उत्पादन क्षमता का एक तिहाई हिस्सा परमाणु बिजली घर से उत्पादित होता है।

उसके 23 परमाणु रियेक्टरों में से तीन रियक्टरों को फर्जी प्रमाणपत्र जारी करने के कारण बंद कर दिया गया है। जबकि अन्य 23 रियेक्टर स्टीम जेनरेटर की वोल्डिंग गुणवत्ता में आयी खामियों की वजह से बंद पडे हैं। छह रियेक्टर अपनी तयशुदा सीमा 30 वर्ष पूरा कर चुके हैं। अधिकारियों के अनुसार फर्जी सुरक्षा प्रमाणपत्र जारी किए जाने की घटना में लगभग 100 लोगों की सहभागिता है जिसमें कई सरकारी अधिकारी है। कोरिया की संसद में उच्चाधिकारी प्राप्त समिति ने घोटाले में आज लगभग तीन खरब डालर के नुकसान होने का अनुमान व्यक्त किया है।

दक्षिण कोरिया ने 2035 तक परमाणु ऊर्जा में इस्तेमाल से 22 से 29 प्रतिशत तक ऊर्जा उत्पादन का अनुमानित लक्ष्य रखा है। संसदीय पूछताछ के दौरान कोरिया हाड्रो एण्ड न्यूक्लियर पावर कारपोरेशन (के एच एनपीसी) के प्रमुख मुख्य कार्यकारी अधिकारी चो श्यूक मौजूद थे। दक्षिण कोरिया अपने कुल ऊर्जा उत्पादन में 31 प्रतिशत कोयले और एलएनजी से 26 प्रतिशत उत्पादित करता है। एल एन जी के आयात पर दक्षिण कोरिया को भारी मात्रा में विदेशी मुद्रा खर्च होती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You