बांग्लादेश विद्रोह मामले में 151 को सजा-ए-मौत

  • बांग्लादेश विद्रोह मामले में 151 को सजा-ए-मौत
You Are HereInternational
Tuesday, November 05, 2013-8:55 PM

ढाका : बांग्लादेश की एक अदालत ने बार्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के 151 गार्डों के खिलाफ मंगलवार को सजा-ए-मौत की सजा सुनाई। अदालत ने यह सजा फरवरी 2009 में दो दिनों के विद्रोह के लिए सुनाई है। बीजीबी को पहले बांग्लादेश राइफल्स (बीडीआर) कहा जाता था।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार जिन 158 लोगों के खिलाफ आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है, उनमें सत्तारूढ़ अवामी लीग और विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी के दो नेता भी शामिल हैं। इसके अलावा बीजीबी मुख्यालय में हुए विद्रोह के सभी आरोपों से 271 लोगों को बरी कर दिया गया। न्यायालय ने 251 गार्डों को तीन वर्ष से 10 वर्ष के कारावास की सजा भी सुनाई। ढाका के अतिरिक्त महानगर सत्र न्यायाधीश मोहम्मद अख्तरजमान ने मंगलवार को करीब 12.30 बजे सजा सुनानी शुरू की और 3.15 बजे तक सभी 831 दोषियों को सजा सुना दी गई।  इस विद्रोह के दौरान 74 लोगों की हत्या की गई थी। इनमें सेना के 57 अधिकारी शामिल थे जो प्रतिनियुक्ति पर आए थे।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You