बांग्लादेश में वरिष्ठ विपक्षी नेता गिरफ्तार

  • बांग्लादेश में वरिष्ठ विपक्षी नेता गिरफ्तार
You Are HereInternational
Sunday, November 10, 2013-5:41 AM

ढाका: बांग्लादेश में खालिदा जिया के नेतृत्व वाली मुख्य विपक्षी पार्टी बांग्लादेश नेशनल पार्टी (बीएनपी) द्वारा अगले आम चुनाव की निगरानी के लिए एक तटस्थ कार्यवाहक सरकार के गठन की मांग को लेकर कल से 72 घंटे की राष्ट्रव्यापी हड़ताल की घोषणा किए जाने के बाद पांच वरिष्ठ विपक्षी नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया।

बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के तीन वरिष्ठ नेताओं मौदूद अहमद, एमके अनवर और रफीकुल इस्लाम मियां को बीती रात गिरफ्तार किया गया। रिपोर्ट में कहा गया है कि ये तीनों कल रात यहां एक अखबार के वार्षिक समारोह में शिरकत करके घर लौट रहे, तभी रास्ते में इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

इसके बाद पुलिस ने खालिदा के सलाहकार एवं देश के शीर्ष उद्योगपतियों में शुमार अब्दुल अवल मिंटू और जिया के विशेष सहायक शिंबूल बिस्बास को रात एक बजे (स्थानीय समय) के करीब जिया के आवास ‘गुलशन’ के बाहर से पकड़ लिया। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, खालिदा जिया के कार्यालय और आवास के आस पास के स्थानों के अलावा सड़कों पर बड़ी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है।

इस बीच बीएनपी ने आरोप लगाया कि गिरफ्तारी से बचने के लिए भूमिगत हुए बीएनपी के कुछ अन्य प्रभावशाली नेताओं के घरों पर पुलिस ने कल आधी रात को छापे भी मारे। इन गिरफ्तारियों के विरोध में बीएनपी ने आज प्रस्तावित हड़ताल को 12 घंटे और बढ़ाते हुए कहा कि 84 घंटों का यह हड़ताल अब बुधवार शाम तक जारी रहेगा।
इस बीच, गुस्साए विपक्षी कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर जमकर विरोध प्रदर्शन किया और कई वाहनों को आग के हवाले करने के अलावा कई बम विस्फोट भी किए।

पुलिस ने अभी तक यह साफ नहीं किया है कि बीएनपी नेताओं को किन आरोपों में हिरासत में लिया गया है, हालांकि सूचना मंत्री हसनुल हक ईनू ने कल रात संवाददाताओं को दिए एक संक्षिप्त बयान में कहा कि इस ‘असाधारण हालात’ में देश को अराजकता से बचाने के लिए सरकार को सख्त कदम उठाने को मजबूर होना पड़ा।

ईनू ने इस अराजकता के बारे में विस्तार से बात नहीं की, लेकिन मीडिया से मिल रही रिपोर्टों के मुताबिक, जिया के साथ रात बंद कमरे में हुई बैठक में विपक्षी नेताओं ने सरकार पर दबाव बनाने के लिए 10, 11 और 12 नवंबर को राष्ट्रव्यापी हड़ताल की योजना बनाई थी। यह दो सप्ताह के भीतर तीसरे लंबे समय की हड़ताल होगी। इससे पहले बीएनपी नीत गठबंधन ने कार्यवाहक सरकार के गठन को लेकर दबाव बनाने के लिए 27 अक्तूबर और चार नवंबर को 60 घंटों के हड़ताल का आह्वान किया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You