चोरी के मामले में भारतीय मूल की बहनों को मिली सजा

  • चोरी के मामले में भारतीय मूल की बहनों को मिली सजा
You Are HereInternational
Wednesday, November 13, 2013-2:36 PM

सिंगापुर: सिंगापुर की एक अदालत ने आज चोरी के अपराधों को लेकर भारतीय मूल की दो बहनों को परिवीक्षा और जेल की सजा सुनाई। विग्नेश्वरी पशुपति (24) को 24 महीनों की परिवीक्षा, 150 घंटे की सामुदायिक सेवा और 5,000 सिंगापुर डॉलर का बांड भरने का आदेश दिया गया। उसकी बड़ी बहन और मुख्य साजिशकर्ता राजेश्वरी पशुपति (26) को एक छात्र से चुराई गई चाभी की मदद से उसके घर में घुसने और  20,000 सिंगापुर डॉलर की कीमत के आभूषण चुराने के लिए 15 महीने की जेल की सजा सुनाई गई।

दोनों बहनें सिंगापुर की ओर से क्रिकेट खेल चुकी हैं और सिंगापुर के एक बड़े स्कूल में अंशकालिक सहायक क्रिकेट कोच के तौर पर काम कर रही थीं। न्यूज एशिया चैनल की खबर के अनुसार, मई 2012 में उन्हें पता चला कि एक छात्र के माता-पिता बाहर गए हुए हैं और 12 साल का छात्र अपने घर में अकेले है। इसके बाद बहनों ने क्रिकेट कोच जेराज पूवानेशेन के साथ सभी छात्रों को दोपहर में दौडऩे के लिए स्कूल के बाहर भेज दिया और उस लड़के के बैग से उसके घर की चाबियां चुरा लीं।

जिला न्यायाधीश मैथ्यू जोसेफ ने कहा कि दोनों बहनों ने पूरी तरह सोच विचार कर और योजना बनाकर अपराध को अंजाम दिया था।  दोनों बहनों ने कोच एवं शिक्षकों के पद का गलत इस्तेमाल किया। दोनों बहनों को 10 साल तक जेल की सजा हो सकती थी। कोच जेराज को इस साल मई में 15 महीनों की जेल की सजा सुनाई गई थी।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You