‘पाक से परमाणु खतरे को कम करके आंका गया’

  • ‘पाक से परमाणु खतरे को कम करके आंका गया’
You Are HereInternational
Wednesday, November 20, 2013-3:12 PM

वाशिंगटन: वैश्विक सुरक्षा को पाकिस्तान के परमाणु हथियारों से जितना खतरा है उसकी तुलना में ईरान से इस तरह का खतरा बहुत कम है ,जबकि ईरान के मामले को बहुत अधिक बढ़ा चढ़ाकर पेश किया जाता है। एक पूर्व अमेरिकी अधिकारी ने यह टिप्पणी की है। व्हाइट हाउस और पेंटागन के एक पूर्व अधिकारी और ‘रोलिंग पैनिस इन दि डार्क’ के लेाक डगलस मैक किनोन ने कल फाक्स न्यूज के एक कार्यक्रम में यह टिप्पणी की।

उन्होंने कहा कि ‘अपनी और इस्राइल की सुरक्षा की बात करते हुए क्या हमने ईरान से उत्पन्न परमाणु खतरे को बढ़ा चढ़ाकर पेश किया है और इस तरह खुद को खतरे में डाला है और क्या ऐसा करते समय हमने पाकिस्तान से उत्पन्न कहीं अधिक बड़े खतरे को कम करने पेश किया है। इससे पहले कि बहुत देर हो जाए ,क्या सरकार का कोई अधिकारी इस सवाल का जवाब दे सकता है।’ उन्होंने कहा, ‘हर दिन, हर हते और वास्तव में हर साल हम लगातार यही सुनते रहते हैं कि ईरान से हमें बहुत ज्यादा परमाणु खतरा है।’ मैक किनोन ने यह बात कहते हुए उस अनोो क्षण की याद दिलाई, जब कई साल पहले एक दफा अभिनेता जार्ज क्लूनी ने राष्ट्रपति बराक ओबामा से पूछा था कि ऐसी कोैन सी बात है जिसकी वजह से उन्हें रातों को नींद नहीं आती, उस समय ओबामा ने कहा था, ‘पाकिस्तान’।

किनोन ने कहा , ‘यह बहुत ही विचित्र है कि ओबामा ने यह स्वीकारोक्ति क्लूनी के सामने की, न कि अमेरिकी लोगों के सामने। हालांकि इस बात से कोई ज्यादा असर नहीं पड़ता, असर पड़ता है तो इस बात से कि राष्ट्रपति ने इस बात को स्वीकारा कि ‘उस देश’ से उन्हें कितने ातरों का आाास होता है।’ मीडिया और राजनीतिक नेताओं द्वारा ईरान के मामले को बेहद उछाले जाने की बात की ओर लोैटते हुए उन्होंने कहा कि इसे हमेशा इस्राइल की सुरक्षा से जोड़ा जाता रहा है। किनोन ने कहा कि पेंटागन के उनके कार्यकाल के दौरान उन्हें इस्राइली रक्षा बलों के साथ काम करने का अवसर मिला। उन्होंने कहा ,‘आज मेरी चिंता यह है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा अपने पश्चिम एशिया के इस मित्र और अब तक बेहतरीन सहयोगी रहे देश से दूर जा रहे हैं और ऐसा क्यों है ,ये सिर्फ वहीं जानते हेैं।’

उन्होंने कहा कि इसके अलावा इस्राइल के नेता और वहां के लोग भी मीडिया द्वारा ईरान के परमाणु हथियार मामले को दी जा रही तवज्जो से प्रभावित हो रहे हैं और उन्हें भी यह अब ज्यादा बड़ा खतरा लगने लगा है। हालांकि इस्राइल के एक पत्रकार ने हाल में उन लोगों को याद दिलाने की कोशिश की कि उन्हें वास्तविक खतरा ईरान से नहीं, बल्कि पाकिस्तान से है। अपनी टिप्पणी में किनोन ने मुस्लिम कैनेडियन कांग्रेस के संस्थापक तारेक फतह के हवाले से कहा , ‘ईरान से परमाणु खतरा एक वास्तविकता है लेकिन पाकिस्तान की ओर से परमाणु खतरा उससे भी बड़ा नहीं ,तो भी एक वास्तविकता है।

पाकिस्तान जिहादी आत्मघाती हमलावरों का विश्व का सबसे बड़ा स्रोत है साथ ही दुनियाार में फैले इस्लामी आतंकवादियों का प्रशिक्षणगाह भी।’ किनोन ने कहा कि कुछ माह पहले इस्राइली गुप्तचर के एक पूर्व वरिष्ठ शोधकर्ता और विश्लेषक तथा परमाणु शक्ति संबंधी प्रौद्योगिकी के विशेषज्ञ डा रफेल ओफेक ने भी इसी तरह के खतरे के प्रति आगाह किया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You