सीरिया गुहयुद्धः भारी कीमत चुकाने को मजबूर हैं सीरियाई बच्चे

  • सीरिया गुहयुद्धः भारी कीमत चुकाने को मजबूर हैं सीरियाई बच्चे
You Are HereInternational
Friday, November 29, 2013-11:24 PM

अम्मानः सीरिया में जारी गृहयुद्ध के कारण लगभग 11 लाख बच्चे अपने घर, अपने परिवार, अपने साथियों से दूर जार्डन के शरणार्थी शिविर रहने के लिए मजबूर हैं। इन बच्चों की त्रासदी सिर्फ अपना वतन छूटने से खत्म नहीं होती बल्कि यहां से शुरू होती है उनकी अंतहीन दुख की शुरूआत।

शरणार्थियों के मामले देखने वाली संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी (यूएनएचसीआर) ने अपने ताजा रिपोर्ट में जार्डन और लेबनान के शरणार्थी शिविरों में रहने वाले सीरियाई बच्चों का साक्षात्कर लेने के बाद यह तथ्य उजागर किया है। यूएनएचसीआर ने अपनी रिपोर्ट में इन बच्चों का नाम लिखा है लेकिन उनका उपनाम उनकी पहचान छुपाने के उद्देश्य से गुप्त रखी है।

रिपोर्ट के मुताबिक जार्डन और लेबनान के शरणाथी शिविर में रहने वाले 70 हजार से अधिक परिवार बिना पिता के हैं। शिविर में रहने वाले 3700 बच्चे या तो अपने माता-पिता से बिछडे हैं या उनके माता पिता नहीं हैं। संयुक्त राष्ट्र द्वारा पंजीकृत लगभग 22 लाख सीरियाई शरणार्थियों में से आधे से अधिक संख्या बच्चों की है। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक शरणार्थी शिविर में लगभग 15 लाख सीरियाई बच्चे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You