भारत के साथ हाथ मिलाने को तैयार है चीन

  • भारत के साथ हाथ मिलाने को तैयार है चीन
You Are HereInternational
Tuesday, December 03, 2013-10:04 AM

बीजिंग: चांद पर एक मानवरहित अंतरिक्ष यान उतारने का अपना पहला अभियान सफलतापूर्ण शुरू करने वाले चीन ने कहा है कि वह मंगल पर अपना पहला अंतग्रहीय अभियान भेजने वाले भारत के साथ अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग करना चाहता है।

चीन ने कल रात लगभग 56.4 मीटर ऊँचे लॉंग मार्च-3बी नाम के रॉकेट के द्वारा चांगई -3 नाम का प्रोब कक्ष में शीचांग उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र से प्रक्षेपित किया। इसी दिन भारत के मंगलयान ने पृथ्वी की कक्षा छोड़ी और वह मंगल ग्रह के लिए 300 दिन की लंबी यात्रा पर रवाना हो गया।

सरकारी संवाद समिति शिंहुआ में दी रिपोर्ट के अनुसार, चीन के ल्यूनर प्रोब के सफल प्रक्षेपण में चीन के अंतरिक्ष वैज्ञानिक देश के निकट पड़ोसी भारत और अन्य देशों के साथ सहयोग करना चाहते हैं। इससे पहले चांद कार्यक्रम के डिप्टी कमांडर इन चीफ ली बेनझेंग ने मीडिया को बताया कि चीन के अंतरिक्ष अनुसंधान का मकसद किसी से मुकाबला करना नहीं है।

शिंहुआ की रिपोर्ट में बेनझेंग के हवाले से कहा, "हम अपने चंद्र कार्यक्रम में अन्य देशों से सहयोग का स्वागत करते हैं। हम मानव विकास को प्रोत्साहित करने के लिए अधिक संसाधन जुटाने में अंतरिक्ष के क्षेत्र में अनुसंधान किए जाने की उम्मीद करते हैं।"

चांग ई-3 ल्यूनर प्रोब के दिसंबर के मध्य में चांद पर उतरने की उम्मीद है। यह चीन की परग्रही खगोलीय पिंड पर जाने की पहली कोशिश के तहत एक बड़ा कदम है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You